बुढ़ाना में युवती का शव सड़क पर रखकर मेरठ-करनाल हाइवे जाम किया

बुढ़ाना में युवती का शव सड़क पर रखकर मेरठ-करनाल हाइवे जाम किया

09bdn1बुढ़ाना। गांव फुगाना की लापता युवती आरती का शव पोस्टमार्टम से आने के बाद ग्रामीणों नें शव को सड़क पर रखकर मेरठ-करनाल हाइवे जाम कर दिया। ग्रामीणों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर नारेबाजी की। ग्रामीण मामले के खुलासे व हत्यारों की तुरंत गिरफ्रतारी की मांग पर अड़े रहे। एसडीएम बुढ़ाना ने ग्रामीणों के बीच पहुंचकर दो दिन में हत्यारों की गिरफ्तारी व दस लाख की आर्थिक सहायता का आश्वासन दिया, तो ग्रामीण शांत हुए और जाम खोला गया। पुलिस ने डाग स्कवायड की टीम के साथ खेतों में सर्च अभियान चलाया।
थाना फुगाना क्षेत्र के गांव फुगाना निवासी नानू की पुत्री आरती (19) बुधवार को खेत से लौटते समय रास्ते में लापता हो गई थी। आरती का शव गुरुवार को गांव के ही धर्मपाल के गन्ने के खेत के बीच पड़ा मिला था। आरती की गला रेतकर हत्या की गई थी। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था।
09bdn3
पोस्टमार्टम के बाद शुक्रवार को सुबह आरती का शव गांव में पहुंचा, तो पूर्व प्रधान मोनू के नेतृत्व में सैंकड़ों महिलाएं एवं पुरुष आरती के शव को लेकर मेरठ करनाल हाईवे पर गांव के अड्डे के सामने पहुंच गए। शुक्रवार को प्रातः करीब आठ बजे ग्रामीणों ने शव को सड़क के बीच रखकर जाम लगा दिया। ग्रामीण पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए नारेबाजी की। इसी दौरान शामली की ओर से आई रोडवेज की बस में ग्रामीणों ने लाठी-डंडों से तोड़फोड़ की। घटना की सूचना पर भौराकलां, बुढ़ाना तथा शाहपुर की पुलिस भी घटनास्थल पर पहुंच गई। सूचना पर एसडीएम श्याम अवध चौहान भी मौके पर पहुंच गए। इसी बीच भाजपा नेता उमेश मलिक, नितिन मलिक तथा बसपा के पूर्व सांसद कादिर राना भी मौके पर पहुंच गए।
पीएम बनने के बाद कल पहली बार.. गुजरात के भाजपा मुख्यालय में कदम रखेंगे मोदी
करीब चार घंटे की भारी मशक्कत के बाद ग्रामीणों की मांग पर एसडीएम श्याम अवध चौहान ने हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए दो का समय मांगा। एसडीएम ने शासन से पीड़ित परिवार को दस लाख रुपए की आर्थिक सहायता दिलवाने का भी आश्वासन दिया। अधिकारियों के आश्वासन पर ग्रामीणों ने जाम खोल दिया। इसी बीच परिवार की महिलाओं ने हंगामा करते हुए कहा कि जब तक हत्यारे नही पकड़े जाएंगे, तब तक वे आरती के शव अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।
नोटबंदी पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, केंद्र से पूछा, नोटबंदी से क्या लाभ..कब सुधरेंगे हालात
ग्रामीणों तथा पुलिस के समझाने पर परिवार वाले आरती के शव को हाईवे से उठाकर अपने घर ले गए। जाम लगाने वालों में ग्रामीण सौराज, प्रमोद, अशोक, सतपाल, राममेहर, बिल्लू, रामसिंह, राकेश, विनोद, महिला रूबी, कमला, बाला सहित गांव के सैंकड़ों महिलाएं एवं पुरुष मौजूद रहे। हत्यारों की तलाश में साक्षय एकत्रा करने के लिए पुलिस तथा डॉग स्कवायड की टीम ने गन्ने के खेत में सर्च अभियान चलाया। केन्द्रीय राच्य मंत्री संजीव बालियान भी पीड़ित परिवार को सांत्वना देने गांव फुगाना पहुंचे।
add-royal-copy

Share it
Share it
Share it
Top