बुलंदशहर: टंकी व क्वार्टर निर्माण में लाखों का घोटाला, डीएम ने शासन को लिखा पत्र

बुलंदशहर: टंकी व क्वार्टर निर्माण में लाखों का घोटाला, डीएम ने शासन को लिखा पत्र


बुलंदशहर। औरंगाबाद के परवाना-महमुदपुर गांव में पानी की टंकी निर्माण सहित नौ लाख रुपये की लागत से बने स्टाफ क्वार्टर में भी घोटाला सामने आया है। इस पूरे प्रकरण में एसडीएम ने डीएम को रिपोर्ट सौंपकर कार्यवाही की सिफारिश की है।
औरंगाबाद के परवाना-महमुदपुर गांव में पेयजल टंकी निर्माण व जलापूर्ति के लिए वर्ष 2014-15 में 4 करोड़ 61 लाख रुपये स्वीकृत हुए थे। निर्माणदायी संस्था उप्र जल निगम को नामित किया गया। जांच रिपोर्ट के मुताबिक, निर्माणदायी संस्था ने पेयजल योजना को अगस्त 2016 में गांव के हैंडओवर करना दर्शाया है, जबकि वर्तमान प्रधान का कहना है कि योजना अभी तक उनके सुपुर्द नहीं की गई हैं। यदि हस्तांतरण पत्र पर उनके हस्ताक्षर हैं तो वे फर्जी हैं।
वहीं जल निगम द्वारा योजना को पूर्ण दर्शाया है, लेकिन पेयजल लाइन वाले रास्ते का तीन स्थानों से मरम्मत कार्य अधूरा पड़ा है। जल निगम ने स्टाफ क्वार्टर पर 8.99 लाख रुपये खर्च होना दर्शाया हैं, मगर एक भी स्टाफ क्वार्टर नहीं हैं। मौके पर साइड की बाउंड्रीवाल का निर्माण कार्य भी प्रगति पर पाया गया, लेकिन जब निगम ने अइके निर्माण पर 19.19 लाख रुपये खर्च होना बताया है।


http://www.royalbulletin.com/5-injured-in-cm-janta-darbar/


रिपोर्ट में तहसीलदार ने यह भी कहा कि गांव में अभी तक भी आधी अबादी के पास पानी नहीं पहुंच पाया है। जो लाइन बिछाई गई है वह नालियों में है। इन पाइप लाइन से लोगों के घरों में कनेक्शन तक नहीं दिए गए हैं और कई जगह से ब्लॉक हैं। तहसीलदार की रिपोर्ट के बाद स्याना एसडीएम ने उप्र जल निगम के अधिशासी अभियंता के विरुद्ध कार्यवाही की संस्तुति डीएम से की है। बतादें कि 18 हजार की आबादी वाले परवाना महमुदपुर गांव में ठेकेदार ने 20 प्रतिशित इलाके में पाइप लाईन बिछाने का काम किया, लेकिन पाइप लाइनों को गलियों के बाहर ही नालियों में छोड़ दिया गया था। पूर्व जिलाधिकारी आज्जनेय कुमार सिंह ने मामला संज्ञान में लेकर इस की जांच के आदेश सीडीओ को दे दिए थे। डीएम रोशन जैकब ने बताया कि परवाना महमुदपुर गांव में पेयजल योजना की जांच कराई गयी। जांच रिपोर्ट में पूर्व प्रधान और उप्र जल निगम के अधिशासी अभियंता की मिली भगत सामने आई है। एसडीएम की रिपोर्ट के अधार पर शासन को पत्र लिखा गया है।


Tags:    scam up 
Share it
Share it
Share it
Top