बीसम बीस में बदला चुकाने उतरेगी टीम इंडिया

बीसम बीस में बदला चुकाने उतरेगी टीम इंडिया

किंग्स्टन। भारतीय टीम रविवार को होने वाले एकमात्र ट्वंटी 20 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मुकाबले में वेस्ट इंडीज से पिछली कुछ पराजयों का बदला चुकाने के लक्ष्य के साथ उतरेगी। भारत ने वेस्ट इंडीज से पांच वनडे की सीरीज 3-1 से जीत ली है और अब उसका लक्ष्य एकमात्र बीसम बीस मैच भी कब्जाना है। भारत ने जिस वनडे सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया उसे देखते हुए ट्वंटी 20 में भी उसका पलड़ा भारी माना जा रहा है लेकिन कैरेबियाई इस फॉर्मेट में महारथी माने जाते हैं और उन्हें हराना आसान काम नहीं होगा। भारत को अपनी मेजबानी में 2016 में हुए विश्व कप के सेमीफाइनल में वेस्ट इंडीज के हाथों सात विकेट से हार का सामना करना पड़ा था और 2016 में ही अमेरिका में खेली गयी दो ट्वंटी 20 मैचों की सीरीज वेस्ट इंडीज ने 1-0 से जीती थी। वेस्ट इंडीज ट्वंटी 20 का विश्व चैंपियन है और भारत के पास अच्छा मौका है कि वह वनडे सीरीज जीतने के बढ़े मनोबल को कायम रखते हुए वेस्ट इंडीज को बीसम बीस मु$काबले में भी पटखनी देकर दौरे का समापन जीत के साथ करे। इस एकमात्र मु$काबले के लिए भारतीय टीम को देखा जाए तो युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत को मौका मिल सकता है। वनडे सीरीज में सभी खिलाडिय़ों को आजमाया गया लेकिन पंत को कोई मौका नहीं मिल पाया। पंत ने अब तक सिर्फ एक ट््वंटी 20 मैच खेला है। टीम में अनुभवी महेंद्र सिंह धोनी और दिनेश कार्तिक के रूप में दो अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज मौजूद हैं। कार्तिक ने पिछले वनडे में नाबाद अर्धशतक बनाया था। धोनी ने लगातार पांच वनडे खेले हैं कल 36 साल के हो गए धोनी को कुछ विश्राम देने की जरूरत है और उनकी जगह इस युवा विकेटकीपर को मौका दिया जा सकता है। 


http://www.royalbulletin.com/बीजेपी-विधायक-को-रिश्वतख/

ओपनिंग में अजिंक्य रहाणे और शिखर धवन की जोड़ी बनी रहेगी। हालांकि शिखर पिछले तीन मैचों में चार, पांच और दो रन ही बना पाए थे। इससे पहले शुरुआती दो वनडे में उन्होंने 87 और 63 रन बनाये थे। युवराज सिंह पिछले दो वनडे में नहीं खेले थे और उन्हें अंतिम एकादश में उतारने के लिए टीम प्रबंधन को कुछ माथा पच्ची करनी पड़ेगी। 


http://www.royalbulletin.com/देवबंद-में-माफियाओं-द्वा/

टीम में हार्दिक पांड्या ,केदार जाधव और रवींद्र जडेजा आलराउंडर की भूमिका बखूबी निभा रहे हैं। पांड्या ने टीम में तेज गेंदबाजी आलराउंडर की जगह को बखूबी भर दिया है। जडेजा की गेंदबाजी तो बेहतर है लेकिन उनकी बल्लेबाजी में कुछ गिरावट आई है जिसे उन्हे सुधारना होगा। पिछले मैच में चार विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और तीन विकेट लेने वाले उमेश यादव के बने रहने की उम्मीद है। डैथ ओवरों के माहिर भुवनेश्वर कुमार पिछले दो वनडे में नहीं खेले थे और उनकी जगह बनाने के लिए किसी तेज गेंदबाज या स्पिनर को हटाना होगा। इस दौरे में अब तक यह अच्छी बात रही कि लगभग सभी खिलाडिय़ों को किसी न किसी मैच में उतरने का मौका दिया गया। यह देखना दिलचस्प होगा कि भारतीय कप्तान विराट कोहली इस मुकाबले में कैसी एकादश उतारते हैं।

Share it
Share it
Share it
Top