बिना वेतन के कार्य को अंजाम दे रही भोजन माताएं

बिना वेतन के कार्य को अंजाम दे रही भोजन माताएं

मोरना। कस्बा भोकरहेडी स्थित सरकारी प्राथमिक विद्यालयों में दोपहर का खाना बनाने वाली भोजन माताओं को पिछले 8-10 माह से वेतन नहीं मिल रहा है। वेतन न मिलने के कारण भोजन माताओं के बच्चों की स्कूल फीस रूक गयी है। नई सरकार द्वारा वेतन मिलने की आस में भोजन माताएं संशय की स्थिति में खाना बना रही है। खण्ड शिक्षा अधिकारी जितेन्द्र कुमार ने मामले को संज्ञान में लेकर जांच के आदेश दिये हैं।
भोकरहेडी के मौहल्ला बाजार स्थित प्राथमिक विद्यालय नं. 1 में तीन महिलाएं राधा, कमलेश, ओमवती स्कूली बच्चों का मिड डे मील रसोई में बनाती हैं। जिसमें राधा व ओमवती को पिछले छ: माह से वेतन नहीं मिला है।
‘यदि स्कूल में पढ़ना है तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जैसे बाल कटाने होंगे’..स्कूल में अभिभावकों ने किया हंगामा
स्कूल के प्रधानाध्यापक राजेश कुमार ने बताया कि नगर पंचायत भोकरहेडी के अधिशासी अधिकारी के तबादले के चलते दो भोजन माताओं का वेतन रूक गया है। मौहल्ला सुभाष चौक स्थित प्राथमिक विद्यालय नं. 3 में कार्यरत भोजन माताएं कमलेश व सुरेश ने बताया कि पिछले वर्ष जुलाई माह के बाद से उनको वेतन नहीं मिला है। उनको बताया जा रहा है कि एक माह का वेतन सरकारी खर्च में देना होगा, तभी उन्हें वेतन प्राप्त होगा। ऐसे में वेतन मिलने को लेकर उहा-पोह की स्थिति बनी हुई है। खण्ड शिक्षा अधिकारी (एबीएसए) जितेन्द्र कुमार ने बताया कि 31 जुलाई तक का भुगतान कर दिया गया है। कारणों का पता लगाया जाये जाने की बात कहकर शीघ्र जांच के आदेश दिये तथा इस सम्बंध में सम्बंधित कर्मचारियों से जानकारी प्राप्त कर तुरन्त रिपोर्ट तैयार करने का आदेश दिया है।

Share it
Share it
Share it
Top