बरेली में विधायक की दंबगई, विरोध में नहीं खुले बैंक के ताले

बरेली में विधायक की दंबगई, विरोध में नहीं खुले बैंक के ताले

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के बरेली में सत्तारूढ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक द्वारा कथित रूप से बैंक अधिकारी के साथ अभद्रता करने के विरोध में बैंक कर्मचारियों ने आज तालाबंदी कर विरोध जताया। बैंक कर्मचारियों का आरोप है कि नवाबगंज क्षेत्र के भाजपा विधायक केसर सिंह ने कल बड़ौदा ग्रामीण बैंक की दलेलनगर शाखा के प्रबंधक हरीश सिंह के साथ शाखा परिसर में मारपीट की और उन्हे अपनी गाड़ी में डालकर ले गए। इस मामले में थाना नवाबगंज में विधायक, ग्राम प्रधान दलेलनगर प्रेमप्रकाश के खिलाफ तहरीर दी गई है। उधर, बड़ौदा ग्रामीण बैंक की दलेलनगर शाखा समेत आधा दर्जन शाखाओं के कर्मचारियों ने असुरक्षा का हवाला देते हुये काम का बहिष्कार किया जिससे इन बैंको के ताले नहीं खुले। बैंक स्टाफ एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री, वित्तमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री से भाजपा विधायकों को काबू करने और बैंक स्टाफ को सुरक्षा पहुँचाने की और नवाबगंज क्षेत्र के भाजपा विधायक केसर सिंह के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने के आदेश देने की मांग की है। पुलिस को दी गयी तहरीर में बैंक प्रबंधक ने लिखा है कि कल दोपहर बैंक शाखा में वह ग्राहकों से बात कर रहे थे कि इस बीच विधायक केसर सिंह पांच-छह साथियों के आए और उन्होंने कटैया निवासी जागनलाल पुत्र मंगली और दलेलनगर निवासी नत्थूलाल पुत्र छेदालाल के भुगतान के संबंध में पूछताछ करने लगे। मैनेजर का कहना है कि उसने बताया कि संबंधित व्यक्तियों के खाते अतिदेय हैं, अगर ये ऋण माफी के दायरे में आएंगे तो शेष राशि का इनके बचत खाते में भुगतान कर दिया जाएगा। इस पर उन्होंने तत्काल भुगतान पर जोर दिया और अभद्रता करते हुए मारपीट शुरू कर दी।
सीएम योगी ने डीएम शफक्कत कमाल और एसएसपी लव कुमार को हटाया, नागेंद्र प्रसाद सिंह डीएम और सुभाष चंद्र दुबे एसएसपी सहारनपुर बनाए गए
बैंक प्रबंधक का कहना है कि मारपीट के बाद विधायक उसे शाखा से घसीटते हुए गाड़ी में डालकर अज्ञात स्थान पर ले गए। इसके बाद एक कागज पर जबरदस्ती धमकी देकर लिखवाया कि उपरोक्त खातेदारों को कल भुगतान कर दूंगा। इस बारे में श्री सिंह का कहना है कि मारपीट और गाड़ी में डाल ले जाने की बात गलत है। अगर मारपीट की जाती तो कहीं चोट भी लगती। पूरे क्षेत्र के लोग परेशान हैं। सरकार ने कर्ज माफ किया है, इसके बावजूद किसानों का गन्ना का भुगतान, गेहूं बिक्री का पैसा रोककर बैठा था। अगर पैसे दे दो तो भुगतान हो जाता था। अब सिस्टम बदला है। काम में लापरवाही और कामचोरी नहीं चलेगी।
‘यदि स्कूल में पढ़ना है तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जैसे बाल कटाने होंगे’..स्कूल में अभिभावकों ने किया हंगामा

बरेली के उप महानिरीक्षक आशुतोष कुमार ने बताया कि यह गंभीर मामला है. बैंक कर्मचारी की देर रात तहरीर मिली है। ऐसे में पहले तो मामले की जाँच कराई जा रही है जाँच के आधार पर मुकदमा लिखा जायेगा। पुलिस अधीक्षक देहात यमुना प्रसाद ने बताया कि मामले की जाँच कराई जायेगी। जाँच रिपोर्ट विधानसभा अध्यक्ष को भेजी जाएगी। वहां से अनुमोदन के बाद विधायक के खिलाफ एफआई आर दर्ज कराए जाएगी। 

Share it
Share it
Share it
Top