बच्चों में होने वाला अस्थमा..इन बातों का रखें ध्यान

बच्चों में होने वाला अस्थमा..इन बातों का रखें ध्यान

 दमा या अस्थमा सिर्फ बड़ों को ही नहीं होता, यह बच्चों में भी पाया जाता है। दिल्ली जैसे शहर में जहां विश्व भर में सब से अधिक प्रदूषण पाया जाता है, अब से केवल 3 दशक पहले केवल 5 प्रतिशत बच्चे ही दमा रोग से पीड़ित थे, पर आज इस महानगर के 25 प्रतिशत बच्चे इस रोग से पीडि़त हैं पर इस का मतलब यह कदापि नहीं है कि अस्थमा केवल प्रदूषण के कारण ही होता है। अस्थमा क्या है? अस्थमा एलर्जी का ही एक रूप है। यदि एलर्जी से फेफड़े प्रभावित हों तो उसे अस्थमा कहते हैं। घर में सफाई के दौरान या बाहर धूल आदि होने के कारण अक्सर अस्थमा का दौरा पड़ जाता है। दमा एक प्रकार की एलर्जी है। एलर्जी नाक में भी हो सकती है और चमड़ी में भी। यहां पर हम जिस एलर्जी की बात कर रहे हैं, उसमें फेफड़ों की नलियों में सांस की रूकावट हो जाती है, जिस के कारण बच्चे को सांस लेने में परेशानी होती है। यह स्थिति काफी तकलीफदेह होती है और कभी-कभी जानलेवा भी हो सकती है। बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है इसीलिए कोई भी बाहरी वस्तु फौरन ही अस्थमा के लक्षण पैदा कर सकती है। बच्चे में जब दमा होता है तो देखा जाता है कि उस की सांस बहुत तेज चलने लगती है, खांसी आने लगती है, बेचैनी महसूस होती है। बच्चे के सांस लेने पर सीटी की सी आवाज सुनाई देने लगे तो समझना चाहिए कि दमा बहुत अधिक हो गया है। यदि शरीर नीला पड़ जाए, नब्ज तेज चलने लगे, जागते हुए भी लगे कि बच्चा सो रहा है और सांस प्रति मिनट पचास से ऊपर हो तो ऐसे दमे को गंभीर अवस्था वाला दमा माना जाता है। ऐसे में बच्चे को फौरन अस्पताल में भर्ती कराना चाहिए। एक बात याद रखिए।
बड़े काम के हैं… ये किचन टिप्स
लुभावने विज्ञापनों के भ्रम जाल में न फंसें जैसे कि जिंदा मछली खिला कर दमा बिलकुल ठीक हो जाता है वगैरह वगैरह। जुकाम होने, पालतू कुत्ते-बिल्लियों के बालों, धूल-मिट्टी-कीटाणु से घर में मिट्टी, धुआं, प्रदूषण आदि कारणों से दमा बिगड़ जाता है। पेड़ पौधों के पराग से भी बच्चों में दमा होते देखा गया है विशेषत: बच्चों में हंसना-रोना, उत्तेजित या उदास होना भी अस्थमा के दौरे को बढ़ावा दे सकता है। सिगरेट का धुआं एवं आमतौर पर ली जाने वाली दर्द निवारक गोलियां जैसे एस्प्रिन, बूफ्रेन आदि के प्रयोग से भी हालत बिगड़ सकती है। अनाज व कपास की धूल या छौंक लगाते समय निकलने वाले धुंए से भी दमा हो सकता है। दमा होने के कारण कोई भी क्यों न हो, यह संक्रामक रोग नहीं है, यह एक व्यक्ति से दूसरे को नहीं फैलता। इस बीमारी में शरीर के अंदर ही दोष पाया जाता है। अस्थमा का पूर्ण इलाज अब तक ढूंढा नहीं जा सका है लेकिन आजकल मिलने वाले सुविधाजनक इनहेलर्स की मदद से अस्थमा के मरीज किसी हद तक सामान्य जीवन बिता सकते हैं। इनहेलर्स दो प्रकार के होते हैं-प्रिवेंटर इनहेलर्स और रिलीवर इनहेलर्स।
फेफड़ों की सफाई का प्राकृतिक उपाय है खांसी
एक इनहेलर दे कर सांस की नली में आई सूजन को ठीक करते हैं। इन्हें स्टीरायड इनहेलर’ कहते हैं। दूसरे, वह जो कि हवा की नलियों की सूजन को दूर करते हैं। इन्हें ब्रोंको डायलेटर इनहेलर’ कहते हैं। इस के अलावा बच्चों को मुंह से पीने वाली दवाई दी जाती है जिस से बलगम पतला हो कर निकल जाए। केवल सादे गरम पानी की भाप से भी बलगम पतला हो सकता है। जिन बच्चों को ‘इनहेलर’ लेने में परेशानी होती है, उन्हें डॉक्टर एक ‘मैकेनिकल डिवाइस’ यानी एक प्लास्टिक की बोतल के आकार के उपकरण से दवाई देते हैं। अगर बच्चा सांस नहीं ले पा रहा है तो मुंह पर मास्क रख कर दवाई दी जाती है। यह सब विशेषज्ञ की निगरानी में ही किया जाता है। दमा ठीक हो गया है, इस का पता तभी चलता है, जब सांस लेने में बच्चे को परेशानी न हो और खांसी भी नहीं आए।
-सेतु जैन

Share it
Top