बच्चों के लिए घर को बनाएं डेंजरप्रुफ

बच्चों के लिए घर को बनाएं डेंजरप्रुफ

आपका पहला बेबी परिवार में आने वाला है और आप बहुत उत्साहित हैं उसकी सुरक्षा, देखभाल, पालन पोषण के लिए तो आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि आपके घर में कहीं सामान की अधिक भीड़ तो नहीं, फर्नीचर आवश्यकता से अधिक तो नहीं, फर्नीचर ऐसा तो नहीं जो अधिक हल्का हो, जरा सा धक्का लगने पर उलट जाए या कांच लगा हो और गिर कर टूट जाए।
इन बातों पर भी नजर डालें ताकि आपके शिशु को घर सुरक्षा की दृष्टि से सही मिले और आप और आपके शिशु को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना न करना पड़े। वैसे अधिकतर यह समस्या तब आती है जब बच्चा घुटनों के बल चलने (क्राल करने) लगता है या चलना सीखता है। कुछ बातों का रखें ध्यान:-
– घर की रेलिंग और विंडो की ऊंचाई 42 इंच अवश्य रखें ताकि उससे गिरने का खतरा न रहे। रेलिंग का डिजाइन पास पास हो। विंडो में भी ग्रिल लगवा कर रखें ताकि बच्चे के गिरने का खतरा न हो।
– अगर आप ऊपर वाले किसी माले में रहते हैं तो सीढ़ी से घर में प्रवेश करने वाला दरवाजा बंद रखें ताकि बच्चा सीढ़ी की ओर न जा सके।
– बच्चे के आने से पहले घर से कालीन हटा लें क्योंकि जब बच्चा चलना सीखता है तो कालीन में उसका पैर अड़ सकता है और वो गिर सकता है, दूसरा उस पर धूल मिट्टी जमा होने से उसे इंफेक्शन और एलर्जी भी हो सकती है।
– फर्नीचर को खिड़की के साथ न रखें क्योंकि जब बच्चा चलना शुरू करता है तो कुर्सी, सोफे पर भी चढऩे की कोशिश करता है। अगर फर्नीचर खिड़की के पास होगा तो दुर्घटना का खतरा बढ़ सकता है।
– टॉयलेट, बाथरूम में घर साफ करने वाले कैमिकल्स, टॉयलट क्लीनर, साबुन, शैम्पू आदि को काफी ऊंचाई पर रखें ताकि वे बच्चों की पहुंच से दूर रहें।
– घर पर जो भी फर्नीचर हो, उनके कोने नुकीले नहीं होने चाहिए। नुकीले कोने बच्चों को आसानी चोट से पहुंचा सकते हैं क्योंकि उनसे बच्चे टकरा कर गिर सकते हैं।
दौरों से बचाव जरूरी…!

– जब बच्चे चलना सीखते हैं तो वे बिजली के स्विच बोर्ड की ओर खास आकर्षित होते हैं। उन्हें ऑफ ऑन करने में मजा आता है। कभी कभी यह स्विच बोर्ड खतरे का कारण भी बन सकते हैं। स्विच बोर्ड की ऊंचाई भी 42 इंच से ज्यादा रखें। जो प्लग नीचे हों, उनमें प्लग पिन लगा कर रखें ताकि वे उनमें अपनी उंगली न डाल सकें।
– हीटर, ब्लोअर्स, टॉवर फैंस आदि को फर्श पर न रखें। बच्चे इनमें अपना हाथ डाल सकते हैं या इन्हें अपने ऊपर गिरा सकते हैं।
– टायलेट, बाथरूम हमेशा बंद रखें ताकि बच्चे वहां जाकर अंदर से लॉक न कर सकें।
– कमरों, टॉयलेट, बाथरूम में दरवाजों की चिटकनी नीचे से उतरवा दें ताकि कभी अकेले में वो अंदर से चिटकनी न लगा सकें।
– बाथरूम, टॉयलेट के टैप्स भी ऊंचाई पर लगवायें ताकि बच्चे उन्हें आसानी से खोल न पाएं।
– बच्चों के कमरे में कम से कम फर्नीचर रखें। उनके कमरे के फर्श की सफाई का विशेष ध्यान रखें।
– घर का मेन गेट हमेशा बंद रखें ताकि बच्चे खोलकर बाहर न निकल सकें।
मरीज: डाक्टर साब डाक्टर साब मुझे

– ग्लास वाज या मेटेलिक वाज साइड टेबल पर न रखें। बच्चे उन्हें अपने ऊपर गिरा सकते हैं। ग्लास पेटिंग, पिक्चर, मैग्नेटिक बोर्ड आदि भी साइड टेबल पर नहीं रखें। बच्चे उन्हें गिरा कर दुर्घटना का शिकार बन सकते हैं।
– रसोई घर में भी डस्टबिन ढक्कन बंद वाला रखें ताकि बच्चे कूड़े में हाथ न मार सकें। क्रॉकरोच मारने वाली दवा भी ऊंचाई पर रखें। नीचे की दराजों में बड़े बर्तन रखें जिनका प्रयोग कभी कभी करना हो ताकि बच्चे दराज खोल न सके। कैंची, चाकू, कांटे भी ऊंचे स्लैब पर रखें।
– जब बच्चा बहुत छोटा हो या आने वाला हो तो घर पर पालतू जानवर न पालें क्योंकि उनसे बच्चों के संक्रमित होने का खतरा बढ़ता है। उनके बालों से और लार से बच्चे आसानी से बीमार हो जाते हैं।
– कुछ समय के लिए गमले भी घर पर न रखें क्योंकि मिट्टी में बच्चे हाथ मार सकते हैं। कोई कीड़ा उन्हें काट भी सकता है।
-सब चीजों को ध्यान में रखकर आप बच्चे के लिए डेंजरप्रूफ घर रख सकते हैं ताकि आपका लाडला या लाडली किसी दुर्घटना का शिकार न बन सकें।
– मेघा

Share it
Share it
Share it
Top