बचे हुए खाने को फेंकें नहीं.. बल्कि एेसे करें इस्तेमाल

बचे हुए खाने को फेंकें नहीं.. बल्कि एेसे करें इस्तेमाल

bhojan बहुत ही कम घर ऐसे होते हैं जहां खाना खाने के बाद खाना बचता न हो। सभी पारिवारिक सदस्यों के खाना खाने के बाद कोई न कोई सामग्री अवश्य ही बच जाती है। बहुत सी गृहणियां इन सामग्रियों को फेंक देती हैं या किसी जानवर के आगे डाल देती हैं। जरा सोचिए, यदि आप इस सामग्री को दोबारा प्रयोग में ले आएं तो इससे सामग्री बर्बाद भी नहीं होगी बल्कि खाना भी बेहद स्वादिष्ट हो जायेगा। खाने को बर्बादी से बचाने के लिए आप निम्नलिखित उपाय अपना सकती हैं:-
– यदि खाने में दाल बच गई हो तो अगले भोजन के वक्त खाना बनाते समय आप आटे में दाल मिलाकर उसके रोटी या परांठे बना सकती हैं। इससे रोटियां तथा परांठे तो स्वादिष्ट बनेंगे ही, साथ ही दाल भी बेकार नहीं जायेगी।
– बनी हुई काफी यदि बच जाए तो इसे फेंके नहीं बल्कि आइस टे्र में डालकर क्यूब जमा लें तथा बाद में कोल्ड काफी बनाते समय बर्फ की जगह इन क्यूब को इस्तेमाल करें।
– चावल का मांड बच जाने पर उसे फेंकें नहीं बल्कि उसमें जीरा, हींग तथा नींबू मिलाकर इसे सूप की तरह इस्तेमाल करें।
– यदि आपके बनाये हुए चावल बच गये हैं तो उन्हें धूप में सुखाकर रख लें तथा बाद में घी में तल कर खायें। इससे कुरकुरे चावल तैयार हो जायेंगे।
Bigg Boss10 : स्वामी ओम से झड़प में उठा रोहन का हाथ, मिला ये दंड

– बची हुई रोटियां खाने की इच्छा न हो तो उस पर बेसन लगाकर उन्हें तल लें या आलू की पिटठी बनाकर रोटी के बीच भरकर उन्हें तल लें। रोटियां समोसे की तरह तैयार हो जायेंगी।
– शादी विवाह के मौके पर अक्सर चाशनी काफी मात्रा में बच जाती है। इस चाशनी को फेंकें नहीं बल्कि आग पर इतना पकायें कि वह सूख जाये। सूखने पर इसे बूरे की तरह इस्तेमाल में लायें।
– यदि भोजन में बहुत सारी सब्जियां थोड़ी-थोड़ी बच जाएं तो उन्हें एक साथ मिलाकर मक्खन के साथ गर्म करके पाव के साथ खायें।
ह्म् गर्मी के दिनों में चटनी ज्यादा देर तक नहीं टिकती, इसलिए बची हुई चटनी को मैदा में मिलाकर उसके भठूरे तैयार करें।
– बची हुई सब्जियों को डबलरोटी में भरकर उसके ब्रेड रोल तैयार किये जा सकते हैं।
– गर्मियों में दही जल्दी खट्टा हो जाता है इसलिए दही का खट्टापन दूर करने के लिए मलमल के कपड़े में डालकर सारा पानी निकाल दें और गाढ़े मिश्रण में दूध डालकर दही को पुन: प्रयोग में लायें।
– ललिता वर्मा 

Share it
Share it
Share it
Top