पुराने टूथ ब्रश से भी बीमारियां..टूथ ब्रश दो-तीन माह में बदल लें..!

पुराने टूथ ब्रश से भी बीमारियां..टूथ ब्रश दो-तीन माह में बदल लें..!

पुराने टूथ ब्रश का लगातार उपयोग करते रहने या उसे कुछ अंतराल के बाद पुन: उपयोग करने से बैक्टीरिया के माध्यम से बीमारियां फैल सकती हैं। पुराने टूथ ब्रशों से निमोनिया, पेट का अल्सर, सायनस की बीमारी, बदहजमी, डायरिया और गला खराब होने, छाले होने की बीमारियां फैलती हैं। अपना टूथ ब्रश दो-तीन माह बाद बदल कर नया ले लेना चाहिए। इससे दांतों के घिसने व धारदार होने से नुक्सान पहुंचने के साथ इसमें बसे बैक्टीरिया से बीमारियां फैलती हैं। ये ब्रश के नायलन रेशों में छिपे रहते हैं।
सकारात्मक मानसिक दृष्टिकोण द्वारा ही संभव है संपूर्ण उपचार
प्रतिदिन ब्रश के उपयोग के बाद इसे धोकर सुखा कर रखना चाहिए। एक साथ घर के दूसरे सदस्यों का टूथ ब्रश व जीभी नहीं रखने चाहिए। इससे भी बीमारी का आपस में फैलने का खतरा रहता है।
-सीतेश कुमार द्विवेदी

Share it
Share it
Share it
Top