पति के साथ शापिंग करते समय

पति के साथ शापिंग करते समय

यह सही है कि अधिकांश औरतें खरीदारी करने में वक्त अधिक लगाती हैं और ऐसे पुरूषों की संख्या बहुत कम है जो घंटों तक खरीदारी करते हैं।
यह भी देखा जाता है कि औरतें हर वस्तु को जांच परखकर ही खरीदती हैं जबकि पुरूष बिना अधिक माथापच्ची किए वस्तु को खरीद लेते हैं।
साथ ही, औरतों में ‘विंडो शापिंग’ की प्रवृत्ति अधिक पाई जाती है। वे एक वस्तु खरीदने जाती हैं तो दुकान की अन्य सभी वस्तुओं का मोलभाव भी करती रहती हैं। ऐसा करते वक्त न तो उन्हें समय का ही ध्यान रहता है व न ही थकान का अहसास होता है। घरेलू महिलाएं ही नहीं, बहुत-सी नौकरीपेशा महिलाएं भी अक्सर ‘विंडो शॉपिंग’ करती नजऱ आती हैं।
इसके अलावा मोलभाव करना भी औरतों के स्वभाव में होता है। दुकानदार भी औरतों को देखकर वस्तु का मूल्य डेढ़ गुना और इससे भी अधिक बता देते हैं क्योंकि उन्हें पता होता है कि वे मोलभाव अवश्य करेंगी। आखिर उन्हें भी तो मुनाफा कमाना होता है।
बहुत से पुरूष इसे बिलकुल पसंद नहीं करते। जब वे पत्नी के साथ खरीदारी करते हैं और पत्नी दुकानदार के साथ मोलभाव करती है तो यह उन्हें नागवार गुजरता है और वे भविष्य में पत्नी के साथ शॉपिंग पर जाने से कतराने लगते हैं।
कई पति जेब से पैसे निकालना नहीं चाहते, इसलिए पत्नी उनसे खरीदारी करने हेतु जाने के लिए कहती है तो वे बहाने बनाकर उसे टालना चाहते हैं। उन्हें लगता है कि पति के साथ होने से पत्नी अधिक रूपए खर्च कर देती है इसलिए खर्च से बचने के चक्कर में वे उसके साथ शॉपिंग करना नहीं चाहते।
यदि आपके पति भी आपको शॉपिंग पर ले जाने से इन्कार करते हैं तो निम्न सुझावों को ध्यान में रखें। फिर देखिए पति कभी न नहीं कहेंगे।
– जब पति के साथ शॉपिंग करने जाएं तो सिर्फ वही वस्तुएं खरीदें, जो आप घर से सोचकर आई थी।
ढलती उम्र में सौंदर्य सुरक्षा
– कहीं सेल लगी हो तो सेल में से भी जरूरत के मुताबिक ही सामान खरीदें। सस्ते के चक्कर में बेकार वस्तुएं न खरीदें। प्राय: कोई भी पति इसे पसंद नहीं करता।
– यथासंभव खरीदारी जल्दी करने का प्रयास करें। यह नहीं कि पति बाहर खड़े आपका इंतजार कर रहे हैं और आपका दुकान से निकलने को मन ही न करे।
– पति के सामने अधिक मोलभाव न करें। उनके साथ उसी दुकान से ही खरीदारी करें, जहां वाजिब दाम हों।
– कई औरतें दुकान पर जाकर पति से अक्सर पूछती हैं, ‘सुनिए। फ्लां वस्तु ले लूं क्या?’ यदि वे न कहते हैं तो वहीं पर उनसे बहस करना शुरू कर देती हैं। ऐसा करने से बचें।
– पति साथ हों तो ‘विंडो शॉपिंगÓ कदापि न करें। बहुत कम पुरूषों को यह बात पसंद होती है कि खरीदो एक चीज व दाम पूछो हज़ार वस्तुओं के।
– पति की पसंद से खरीदारी करना चाहती हैं तो फिर उनकी पसंद पूछकर वही वस्तु खरीद लें जो उनको पसंद आ जाए। ऐसा न करें कि पहले तो दुकानदार के सामने ही उनकी पसंद पूछती रहें व बाद में अपनी ही मर्जी करें। इससे पति स्वयं को अपमानित महसूस करते हैं इसलिए ऐसा हर्गिज न करें।
आप भी बन सकते हैं अच्छे जीवन-साथी
– अपनी निजी जरूरत की चीजें यथा संभव अकेले ही खरीदें जैसे -अंडरगारमेंट्स, मेकअप का सामान आदि। आमतौर पर ऐसी चीजें खरीदने के लिए पति साथ जाना पसंद नहीं करते, अत: जहां तक संभव हो सके, ऐसी वस्तुएं खरीदने के लिए उन पर साथ जाने हेतु दबाव न डालें।
– जब पति का मूड हो, तभी उन्हें शॉपिंग पर जाने के लिए कहें अन्यथा उनके मूड में होने का इंतजार करें।
– पति के खरीदारी करते वक्त सिर्फ जरूरत की वस्तुएं ही खरीदें। ऐसी वस्तुएं न खरीदें जिनकी अभी आपको आवश्यकता नहीं। साथ ही उनके साथ शॉपिंग करते वक्त फिजूलखर्ची से बचें।
– कोई भी चीज खरीदने से पहले यह अवश्य देख लें कि पति की जेब में पर्याप्त पैसे हैं भी या नहीं।
– कोई महंगी चीज पसंद आ जाए और आपको मालूम है कि आपके पति की इतनी कमाई नहीं है कि वे उस महंगी वस्तु को आपके लिए खरीद लें तो उनसे वह वस्तु लेने की जि़द कदापि न करें।
पति को शॉपिंग पर ले जाना है तो इन बातों का ध्यान तो आपको रखना ही होगा।
– भाषणा बांसल

Share it
Share it
Share it
Top