नोटबंदी पर आरबीआई ने अाधा फीसदी घटाया विकास अनुमान..7.6 से घटाकर 7.1 प्रतिशत किया

नोटबंदी पर आरबीआई ने अाधा फीसदी घटाया विकास अनुमान..7.6 से घटाकर 7.1 प्रतिशत किया

मुंबई ।  नोटबंदी के कारण तीसरी तिमाही में अार्थिक गतिविधियों के सुस्त पड़ने के कारण रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने चालू वित्त वर्ष के लिए विकास अनुमान 7.6 प्रतिशत से घटाकर 7.1 प्रतिशत कर दिया है। आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की दो दिवसीय बैठक के बाद आज जारी बयान में कहा गया है कि अक्टूबर की समीक्षा में वित्त वर्ष 2016-17 के लिए सकल मूल्य वर्द्धन (जीवीए) 7.6 प्रतिशत रहने का अनुमान व्यक्त किया गया था। अब उसे घटाकर 7.1 प्रतिशत कर दिया गया है। बयान के अनुसार, “दूसरी तिमाही में अप्रत्याशित रूप से जीवीए वृद्धि दर आधा फीसदी घट जाने तथा नोटबंदी के कारण 2016-17 के लिए जीवीए विकास का परिदृश्य अनिश्चित हो गया है और इसका असर अब भी जारी है। दो तरीके से इससे विकास दर प्रभावित होगी। पहला, नकदी आधारित क्षेत्रों जैसे खुदरा कारोबार, होटलों एवं रेस्त्रां तथा परिवहन आदि की गतिविधियाँ प्रभावित होंगी। दूसरा, सकल माँग में कमी। नये नोटों की उपलब्धता बढ़ने के साथ पहले कारक से होने वाला प्रभाव कुछ समय में समाप्त हो जायेगा, लेकिन दूसरे कारक का प्रभाव सीमित रहेगा।
add-royal-copy
 

Share it
Top