नर्सिंग सहायक बन कर संवारें करियर

नर्सिंग सहायक बन कर संवारें करियर

जनरल ड्यूटी असिस्टेंट को आप नर्सिंग सहायक भी कह सकते हैं। चिकित्सा के हर क्षेत्र में नर्सिंग सहायक की जरूरत होती है। उसका काम अस्पताल की व्यवस्था को चुस्त-दुरूस्त रखना होता है। उसकी जिम्मेदारी शांति, सुरक्षा और स्वास्थ्य की जरूरतों पर ध्यान देने के साथ दैनिक रोगियों की देखभाल करना भी होती है।
रोगियों को स्वास्थ्य सेवाएं देने के लिए डॉक्टर्स, नर्सों और अन्य स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के सहयोगी के तौर पर काम करते हैं। किसी भी अस्पताल में काम करते हुए एक नर्स के समान जिम्मेदारी होती है, यहां तक कि किसी भी आपदा के वक्त इनकी जरूरत और जिम्मेदारी दोनों बढ़ जाती है।
कार्य की प्रकृति : स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारी जनरल ड्यूटी असिस्टेंट की होती है। सेवा ही इनकी पहचान है। जिस प्रकार एक मां अपने बीमार बच्चे की देखभाल करती है, ठीक उसी प्रकार जनरल ड्यूटी असिस्टेंट मां के रूप में काम करते हैं। एक जनरल ड्यूटी असिस्टेंट को रोगी की देखभाल का व्यावहारिक ज्ञान जरूर होना चाहिए, साथ ही सेवा का जज्बा भी जरूरी है। संवाद में कुशलता हो, शांत स्वभाव हो तो और भी बेहतर।
ढलती उम्र में सौंदर्य सुरक्षा
इसके अलावा समय के प्रबंधन का ख्याल रखना भी जरूरी है। जो लड़कियां या लड़के सामाजिक कार्य में कुछ करना चाहते हैं, उनके लिए यह बेहतरीन कैरियर है। आजकल जितना तेजी से हेल्थ केयर सेंटर्स का विकास हो रहा है, इससे असीम संभावनाओं के द्वार खुलने लगे हैं।
कहां-कहां हैं अवसर: यह कोर्स कई नए रास्ते खोलता है। हेल्थ फिटनेस को ले कर लोगों में बढ़ती जागरूकता के मद्देनजर जनरल ड्यूटी असिस्टेंट या फिर नर्सिंग सहायक के लिए अवसरों की कमी नहीं है। ऐसे बहुत से प्रोफेशन हैं जो सीधे-सीधे सेवा सत्कार एवं देखभाल से जुड़े हुए हैं। मरीजों की देखभाल को न सिर्फ ड्यूटी बल्कि आत्मिक रूप से भी स्वीकार करने की जरूरत होती है।
विदेशों में भी जनरल ड्यूटी असिस्टेंट की काफी डिमांड है। बतौर जनरल ड्यूटी असिस्टेंट आपको किसी भी अस्पताल, नर्सिंग होम, क्लीनिक, हेल्थ डिपार्टमेंट, पुनर्वास गृहों, मिलिट्री ठिकानों, इंडस्ट्रियल हाउसेज, कारखानों, रेलवे और पब्लिक सेक्टर के मेडिकल डिपार्टमेंट, ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट आदि में काम करने का अवसर मिलता है।
आप भी बन सकते हैं अच्छे जीवन-साथी
योग्यता : जनरल ड्यूटी असिस्टेंट की पढ़ाई के दौरान आपको नर्सिंग प्रक्रियाओं, स्टोर कीपिंग, कार्डियक केयर, जैव चिकित्सा के साथ व्यवहार कुशलता जैसी महत्त्वपूर्ण बातों की उचित ट्रेनिंग दी जाती है। मानव सेवा के साथ चिकित्सा के क्षेत्र में रूचि रखने वाले युवकों और युवतियों के लिए नर्सिंग सहायक भी बहुत ही अच्छा करियर है। जनरल ड्यूटी असिस्टेंट के क्षेत्र में अपना करियर बनाने के लिए आपकी न्यूनतम योग्यता 12वीं पास होना अनिवार्य है।
आमदनी का जरिया: एक जनरल ड्यूटी असिस्टेंट की आमदनी 10 हजार से शुरू होती है लेकिन तजुर्बे के साथ-साथ सैलेरी में इजाफा होता चला जाता है। अगर नर्सिंग में डिप्लोमा, डिग्री हासिल कर लेते हैं तो आपकी तरक्की होगी।
प्रमुख संस्थान: ० भारती विद्यापीठ कॉलेज ऑफ नर्सिंग, पुणे, महाराष्ट्र
० श्री शंकराचार्य कॉलेज ऑफ नर्सिंग, भिलाई छत्तीसगढ़
० दिल्ली पैरामेडिकल एंड मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट, नई दिल्ली
० केएमसीएच कॉलेज ऑफ नर्सिंग, कोयंबटूर, तमिलनाडु
– खुंजरि देवांगन

Share it
Top