दिन में ज्यादा देर सोने वाले होते है अवसाद का शिकार

दिन में ज्यादा देर सोने वाले होते है अवसाद का शिकार

नई दिल्ली। नींद हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है, लेकिन सोने का भी सही समय होता है। गलत समय पर सोने से स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां होती हैं। आपको बता दें अवसाद जैसे लक्षणों के उभरने का कारण नींद भी हो सकती है। एक नए शोध के मुताबिक, ओब्सट्राक्विट स्लीप एपनिया (ओएसए) की वजह से भी आत्महत्या जैसे विचार आ सकते हैं। यूनिर्विसटी ऑफ वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के क्लीनिकल प्रोपेâसर व अध्ययन के लेखक डेविड हिलमैन के मुताबिक, शोध में पाया गया कि स्लीप एपनिया में जो लक्षण सामने आते हैं, वह अवसाद के जैसे होते हैं।
यदि पीठ के दर्द से परेशान हैं
अक्सर इससे पीड़ित लोगों को अवसाद का शिकार समझ लिया जाता है। हालांकि हिलमैन ने कहा कि प्रभावशाली चिकित्सा से पीड़ितों की हालत में सुधार हो सकता है। वैज्ञानिकों के अनुसार, खरांटे भरना, अचानक से सांस रुक जाना, नींद का बार-बार टूटना और दिन में ज्यादा नींद आना स्लीप एपनिया के लक्षण हैं।
संतुलित भोजन निखारता है काया
इसके अलावा जो लोग दिन में सोते हैं, वे मोटापे की गिरफ्त में जल्दी आ जाते हैं। दोपहर में सोने से पाचन तंत्र बिगड़ सकता है। खाना ठीक से पचेगा नहीं और इस वजह से पेट से संबंधित कई बीमारियां होने की संभावनाएं काफी बढ़ जाती हैं।

Share it
Share it
Share it
Top