दादाजी के नुस्खे.. हैं बड़े काम के…!

दादाजी के नुस्खे.. हैं बड़े काम के…!

 – यदि आपके मसूड़े कमजोर हों, दांत मैले हों और मुंह से बदबू आती हो तो नींबू की फांकों को दांतों पर रगड़ें। इससे दांत चमकने लगते हैं।
– यदि छोटे बच्चे को खांसी लगी हुई हो तो तुलसी के पत्तों का रस निकाल कर उसमें अदरक का रस मिलाकर चटायें।
– यदि कभी आपकी आंख में कोई तिनका या पत्ता आदि गिर जाये तो गोघृत को थोड़ा-सा गर्म करके उसकी एक दो बूंद आंखों में टपका लें।
– कान में दर्द होने पर सरसों के तेल में लहसुन की एक-दो गांठ को पका लें और हल्का गर्म करके उसकी एक दो बूंद कानों में डालें।
– यदि गोदी के बच्चे की आंख दुखने लगे तो उसकी मां के दूध की एक बूंद उसकी आंख में डालें। तुरन्त आराम होगा।
बच्चों में न होने दें अनीमिया..ये हैं लक्षण

– बालों में खुश्की हो तो नारियल के तेल में नींबू का रस अच्छी तरह मिलाकर फेंटें और इस घोल को बालों में लगा लें और कुछ समय के पश्चात बालों को मुल्तानी मिट्टी के पानी से धो दें, खुश्की जाती रहेगी।
– सब्जी काटने से आपके हाथ के नाखून मैले और धुंधले पड़ जायें तो उन पर नींबू रगड़ कर साफ पानी से धो लें।
– यदि किसी स्त्री या पुरूष को खुजली हो गई हो तो प्रात: कुछ खाये पिये बिना नित्य प्रति नीम की पांच कोंपल खायें। इससे खुजली मिट जाती है और रक्त शुद्ध होकर ताजा खून बनता है।
– यदि किसी मनुष्य के पेट में पथरी हो तो मूली खाने से पेशाब खुलकर आता है और पथरी टुकड़े-टुकड़े बनकर निकल जाती है।
– यदि कोई स्त्री या पुरूष मोटा है तो प्रात: बिना कुछ खाये-पिये बिना पानी के गिलास में नींबू निचोड़कर उसमें काली मिर्च और नमक डालकर पीने से मोटापा दूर हो जाता है।
किसानों को इस साल फिर मिला एक नया नारा..दिखाया गया आय दोगुना करने का सपना…!

– यदि किसी को बवासीर हो तो बथुए का साग बना कर रोटी के साथ खायें। यह जिगर की गर्मी को मिटाता है, कब्ज को दूर करता है तथा बवासीर के रोग को जड़ से काट देता है।
– यदि किसी का दिल कमजोर हो तो गाजर का मुरब्बा खायें। यदि किसी का जिगर खराब हो तो पालक का साग खायें।
– यदि किसी को बदन की गर्मी हो और पैर के तलवे जलते हैं तो कद्दू के टुकड़ों को मलने (मालिश करने) से जिगर की गर्मी दूर हो जाती है।
– यदि किसी का गला बैठ जाये तो अमरूद के पत्तों को उबाल कर और ठंडा करके गरारे करें।
– यदि किसी की पाचन शक्ति दुर्बल हो गई हो तो गुलकंद में शहद मिलाकर खायें।
-संजीव चौधरी गोल्डी

Share it
Top