दांपत्य में बेहतरी के लिए कुछ अच्छी आदतें..अपनाये आप भी…!

दांपत्य में बेहतरी के लिए कुछ अच्छी आदतें..अपनाये आप भी…!

हर रिश्ते में मिठास होना रिश्तों को बेहतर बनाता है। रिश्ता पति-पत्नी, मां-बेटी, सास-बहू, नंद-भाभी, देवरानी-जेठानी दो दोस्तों का ही क्यों न हो पर पति-पत्नी का रिश्ता ऐसा होता है कि थोड़ी सी कड़वाहट आने पर जीवन रूपी गाड़ी का संतुलन बिगडऩे लगता है और रिश्ता मधुर हो तो क्या कहने। वही दंपति जीवन की हर खुशी और दुख का आनंद मिलकर लेते हैं।
इस रिश्ते में थोड़ी कड़वाहट का प्रभाव सबसे अधिक शारीरिक संबंधों पर पड़ता है जिसका परिणाम होता मानसिक तनाव। संबंधों में कड़वाहट अक्सर पार्टनर के गलत व्यवहार से होती है। अगर व्यवहार शिष्ट और खुशनुमा रिश्ते हैल्दी रहते हैं। आइए देंखे कैसे अपने व्यवहार में शिष्टता लाकर संबंधों में मिठास भर सकें।
साथी को इज्जत अवश्य दें:-
चाहे पति हो या पत्नी, दोनों को अच्छा लगंता है कि पार्टनर इज्जत देने वाला हों, अगर एक पार्टनर दूसरे को सम्मान नहीं देता तो रिश्ते कुछ समय बाद बिगडऩे लगते हैं। आजकल दोनों पढ़े लिखे होते हैं और अपने रिश्तों के प्रति जागरूक भी, इसलिए एक दूसरे को यथायोग्य सम्मान दें और उनके माता-पिता, बहन-भाई ओर संबंधियों को भी सम्मान दें।
पार्टनर के विचारों को भी उतना ही गंभीरता से लें जितना आप अपने विचारों हेतु उससे चाहते हैं। दोनों एक दूसरे को अहसास दिलाते रहें कि दोनों ही इस रिश्ते में महत्त्वपूर्ण रोल अदा करते हैं, इसलिए निर्णय भी दोनों की राय से लेना है।
अपने पार्टनर की बात सुनने के लिए दोनों को समय निकालना चाहिए ताकि महसूस हो सके कि दोनों एक दूसरे की परवाह करते हैं। कोई भी निर्णय लेना हो तो दूसरे पार्टनर पर कभी थोपे नहीं। बात कर, अपना पक्ष रख खुशी से रजामंदी होने पर ही निर्णय लें। अगर आप पार्टनर की बात को अहमियत देते हैं तो यह एक अच्छी आदत है। पुरूषों को इसके लिए अधिक जागरूक रहना चाहिए। अगर पत्नी परिवार संबंधी, बच्चों संबंधी, पड़ोस और आर्थिक कोई बात आपसे कर रही है तो पूरे इत्मीनान से बात सुनें ताकि उसे लगे कि उसका पार्टनर उसके साथ है।
बातचीत के दौरन फोन ओर मोबाइल को दूर रखें। अकसर बात करते हुए हाथ मोबाइल पर चला जाता हे जो गंदी आदत है।
ईगो को दरकिनार करें:-

आपसी रिश्तों में ईगो के प्रवेश का अर्थ है अपने दांपत्य में दीमक लगने के लिए स्पेस देनां और दीमक कब आपके रिश्तों को खत्म कर देगी, पता ही नहीं लगेगा। अच्छे संबंधों में ईगो को कोई स्थान नहीं दें। दांपत्य जीवन तो पति पत्नी दोनों के मिलने से ही बनता है। दोनों ही परिवार के दो मुख्य पहिए हैं। ईगो होने से पहिया डगमगाने लगेगा और रिश्ते बिखरने लगेंगे।
साथ में खाना बनाएं और खाएं:-

पति को चाहिए अपने व्यस्त जीवन में कुछ समय पत्नी के साथ किचन में बिताएं, कुछ बनाएं। नहीं बनाना आता तो मदद करें ताकि कुछ हैल्दी टाइम साथ बिता सकें। साथ में रहते हुए थोड़ी सी शरारत, छेड़छाड़ करते रहें। कभी हाथ छू लेना, पीछें से बांहों में कस लेना, गर्दन पर चुंबन देना आदि। अगर स्वयं को बनाना भी आता हो तो भी उसे साथ रखें और चुहलबाजी करते हुए जो भी खाना बनाएंगे, उसका मजा कुछ अलग होगा। फिर एक साथ बैठकर, एक दूसरे को निहारते हुए एक दूसरे को कभी कभी खिलाएं। लाइफ का मजा बढ़ जाएगा और पाटर्नर भी संतुष्ट होगा कि आप उसकी परवाह करते हैं।
सफाई पर दें ध्यान:-

अपनी व्यक्तिगत सफाई का ध्यान तो बहुत जरूरी और अच्छी आदत है जो दूरियों को कम करती हे। कई बार मुंह से आने वाली बदबू या पसीने की बदबू पाटर्नर को पास आने से रोकती है, इस बात का पूरा ध्यान रखेें। रोज नहाएं, डियो लगाएं और टेल्कम पाउडर का प्रयोग करें। दो बार ब्रश अवश्य करें। नान वेज खाने के बाद सौंफ या इलायची लें ताकि पाटर्नर बोर न हो।
इनरवेयर, जुराब, कपड़े प्रतिदिन ताजे धुले पहनें। बाल सप्ताह में दो बार धोएं और बाल संवार कर रखें। व्यक्तिगत सफाई के साथ अपने बेड की सफाई, कमरे की सफाई और वार्डरोब की सफाई का भी विशेष ध्यान दें। आसपास का साफ वातावरण और जिम्मेदारी की भावना रिश्तों को और मजबूत बनाती है। विश्ेाषकर अपने मैले कपड़े, रूमाल, जुराबें,गीला तौलिया, घड़ी और मोबाइल उचित स्थान पर रखें।
मैं तुम्हें प्यार करता /करती हूं:-
यह प्यारा सा 3 शब्द का डायलॉग आईलव यू, संबंधों में जादू का सा काम करता है। हर उम्र में अपने पाटर्नर से इन शब्दों को सुनना प्यार को और ऊंचाइयों तक ले जाता है। दिन में कम से कम दो बार प्यार से ‘आई लव यू’ कहें, फिर देखें पाटर्नर के जोश को। यह शब्द दर्शाते हैं कि आप उनके जीवन में कितनी अहमियत रखते हैं।
क्या आप खाली समय में अपनों को बोर करते हैं..?

फ्लर्टिंग और रोमांस जीवन में रंग भरते हैं:-
वैवाहिक जीवन के कितने साल क्यों न बीत जाएं, आपस में फ्लर्टिंग करना अच्छा लगता है। मनोवैज्ञानिकों के अनुसार फ्लर्टिंग एक ऐसा औजार है जिससे आप दूसरों को अपने बारे में अच्छा महसूस करवा सकते हैं। फ्लर्टिंग से अपनी सेक्स लाइफ भी रिवाइव होती हे। पाटर्नर को याद कराते रहें कि अभी भी आपकी पर्सनेलिटी में आकर्षण है, अभी भी आप उम्र्र से जवां लगते है। एक राइटर के अनुसार फ्लर्टिंग से न सिर्फ किसी इंसान को अच्छा महसूस होता है बल्कि तनाव भी कम होता है जो आज की तनाव भरी जिंदगी में खुश रहने का फार्मूला है।
किसी भी रिश्ते को लंबे समय तक बरकरार रखने के लिए जीवन में रस की आवश्यकता होती है। इसके लिए जरूरी है रिश्तों में रोमांच लाना। साल में कम से कम एक या दो बार बाहर घूमने जाएं। इसके अतिरिक्त कभी जल्दी घर आकर डिनर या कहीं घमूने का प्लान बनाएं। छुट्टी वाले दिन, पिक्चर की टिकट पहले खरीद कर मूवी देखने जाएं। कभी घर पर कैंडल लाइट डिनर की प्लानिंग करें, साथ में घर में बैठकर कोई रोमांटिक पिक्चर देखें। कभी कभी इकटठे स्नान कर इन रोमांचक तरीकों से जीवन में रस घोल सकते हैं।
रक्तदान किया तो 90 की उम्र में भी रह सकते हैं सेहतमंद..!

ओपिनियन देकर और हंसकर दें अपने साथी का साथ:-
बहुत बार बहुत से कपल्स में बातें तो खूब होती हैं पर दूसरा पार्टनर कभी किसी बात पर अपनी ओपिनियन नहीं देता, बस हां में हां मिला देता है। यह अनहैल्दी आदत है। किसी भी बात पर दोनों की राय अलग हो सकती है। सहजता से अपनी राय अवश्य सामने रखें ताकि दूसरे को लगे कि आप बात में पूरी तरह इंवोल्व हैं। वैसे अगर दोनों की राय चांस से एक ही हो तो इससे अच्छी बात नहीं पर दूसरे को नीचा दिखाने या उस पर रौब मारने के कारण राय जबरदस्ती एक बनाने से रिश्तों में दूरियां आती हैं। इसलिए एक दूसरे की बात धैर्यपूर्वक सुनें बीच में बात न काटें। पूरा अवसर दें पार्टनर को अपनी बात रखने का तभी अपनापन बढ़ेगा।
हंस कर बात करने से रिश्ते में मजबूती आती है। अगर पाटर्नर को किसी बात पर हंसी आ रही है तो उसका साथ हंसी में भी दें । एक स्टडी के अनुसार एकल हंसी से सांझा हंसी बेहतर होती है। एक शोध के अनुसार हंसने से कपल्स अधिक एकदूसरे के प्रति समर्पित होते हैं पर हंसी में कभी भी एक दूसरे की कमी का मजाक न उड़ाएं। ऐसे में संबंध सुधरने के बजाए खराब होंगे। अपने संबंधों की गहराई व अपनापन बनाये रखने के लिए मिलकर हंसें। एक दूसरे को जोक्स सुनाएं, इकटठे बैठकर हंसी के प्रोग्राम देखें ताकि मिलकर हंसने का कोई अवसर न छूटे।
– नीतू गुप्ता

Share it
Top