दांतों को मज़बूत करने में सहायक है फिटकरी.. पायरिया रोग में भी मिलता है लाभ..!

दांतों को मज़बूत करने में सहायक है फिटकरी.. पायरिया रोग में भी मिलता है लाभ..!

फिटकरी  का उपयोग अनेक बीमारियों को दूर करने में किया जाता है। यह सस्ती तथा अत्यन्त उपयोगी वस्तु है जो सरलता से सब जगह मिल जाती है। जिस स्थान की मिट्टी में अल्यूमीनियम और गंधक, दोनों तत्व निश्चित मात्र में पाए जाते हों, उस मिट्टी से फिटकरी तैयार की जाती है।
फिटकरी मुख्यत: 4 प्रकार की होती है-पीली, सफेद, लाल व काली। सफेद फिटकरी का प्रयोग ही सर्वाधिक मात्र में किया जाता है। फिटकरी एंटीसेप्टिक का कार्य करती है।
– 20 ग्राम फिटकरी, 10 ग्राम सेंधा नमक पीसकर रख लें। प्रतिदिन सुबह-शाम इसे दांत और मसूड़ों पर मलने से दांत मजबूत होते हैं और उनसे खून आना बंद होता है।
ग्राफिक डिजाइनिंग में करियर

– पिसी हुई फिटकरी पानी में घोलकर दिन में 3 बार कुल्ला करने से पायरिया रोग में लाभ होता है।
– फिटकरी, नमक और सरसों का तेल मिलाकर कुछ दिनों तक मसूड़ों पर मलने से मसूड़े स्वस्थ एवं निरोगी होते हैं।
– शरीर के बाह्य अंगों पर चोट लगने पर निकलने वाले रक्त पर पिसी फिटकरी छिड़कने या फिटकरी पानी में घोलकर उस पानी से घाव को धोने से रक्तस्राव बंद हो जाता है।
-अनीता रानी अग्रवाल

Share it
Share it
Share it
Top