तेनाली राम के किस्से – गर्म पानी

तेनाली राम के किस्से – गर्म पानी

tenaliram
तेनाली राम को महाराजा से भारी रकम पुरस्कार स्वरूप मिलती थी। यह सभी नगरवासियों को मालूम था। नगर के चोर-उचक्कों को भी मालूम था कि तेनाली के घर में बहुत कुछ मिल सकता है। एक बार एक चोर रात के समय तेनाली के घर में चोरी के इरादे से घुस आया। संयोग से तेनाली भी उसी समय अपने घर पहुंच गया। उसने देखा कि उसके घर के आंगन में लगे पौधों में कुछ हलचल हो रही है।
तेनाली ने जरा ध्यान से देखा तो वह समझ गया कि कोई चोर वहां छुपा बैठा है। तेनाली ने कुछ नहीं कहा मगर वहीं खड़ा होकर अपनी पत्नी को गर्म पानी लाने को कहा। तभी उसकी पत्नी गर्म पानी की बाल्टी लेकर आयी तो तेनाली एक लोटा पानी लेता और जिस पौधे के पीछे चोर छिपा था वहां फेंक देता। बेचारा चोर सिर से पांव तक भीग गया और गर्म पानी से झुलस भी गया मगर वह डर के मारे कुछ नहीं बोला। तभी तेनाली ने आखिरी लोटा पानी अपनी पत्नी पर डाल दिया। वह एकदम गुस्से में बोली, ‘यह क्या मुझे गीला कर दिया।`
तेनाली तपाक से बोला, ‘अरी भाग्यवान! बेचारे चोर पर तो सारी बाल्टी का पानी गिरा दिया, वह एक बार भी नहीं बोला और तुम एक लोटे पानी में ही नाराज हो गयी।` यह सुनकर वह चोर भी झाडिघें के पीछे से निकल आया और तेनाली से माफी मांगने लगा। तेनाली ने उसे माफ कर दिया।आप ये ख़बरें अपने मोबाइल पर पढना चाहते है तो दैनिक रॉयलunnamed
बुलेटिन की मोबाइलएप को डाउनलोड कीजिये….गूगल के प्लेस्टोर में जाकर
royal bulletin
टाइप करे और एप डाउनलोड करे..आप हमारी हिंदी न्यूज़ वेबसाइट
www.royalbulletin.com
और अंग्रेजी news वेबसाइटwww.royalbulletin.in को भी लाइक करे.].

Share it
Share it
Share it
Top