ताली और हास्य योग: कई रोगों का इलाज

ताली और हास्य योग: कई रोगों का इलाज

clapping yogaस्वस्थ रहने की योग पद्धति तो प्राचीन काल से चली आ रही है। योग द्वारा हमारा मन शांत, चित्त प्रसन्न, शरीर स्वस्थ, जीवन अनुशासित, खान-पान पर नियंत्रण और इच्छाओं पर नियंत्रण बना रहता है। स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए कई चिकित्सा पद्धतियां अपनाई जाती हैं जैसे प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति रेकी, एक्युप्रेशर, हास्य योग, स्टोन थेरेपी आदि। यह सब वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति में आते हैं।
हास्य योग के लाभ:-
हास्य योग का हमारे शरीर तथा स्वास्थ्य दोनों पर प्रभाव पड़ता है। अगर इसकी सही जानकारी हो तो डाक्टरों, वैद्यों व हकीमों के पास जाना आधा रह जाए। हास्य योग से शरीर के अंदर की सभी नस नाडिय़ां प्रभावित होकर रक्त प्रवाह में बढ़ोत्तरी होती है। हास्य योग ‘इनर जागिंग’ के नाम से भी जाना जाता है।
हास्य योग से हमारे शरीर में थायराइड ग्लैण्ड प्रभावित होता है जिससे शरीर में रक्त संचार की गति बढ़ती है। हास्य योग से टयूमर और वायरस को समाप्त करने वाले किलर सेल्स में वृद्धि होती है। स्ट्रेस हार्मोंस पर भी प्रभाव पड़ता है जिससे स्ट्रेस कम होता है, पाचन प्रणाली सुचारू रूप से कार्य करती है और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। हंसी योग से शरीर के अंदर से नकारात्मक सोच बाहर निकलती है और दूषित वायु बाहर निकलती है जिससे श्वास प्रणाली व्यवस्थित होती है।
हमारे शरीर की 600 मांसपेशियों का व्यायाम एक साथ होता है। हंसी योग हमेशा शुरू में धीरे फिर उसकी स्पीड धीरे धीरे बढ़ाते जाना चाहिए। आजकल भारत में कई लाफ्टर क्लब हैं जहां पर नियमित रूप से विभिन्न ढंगों से हास्य योग कराया जाता है।
ताली बजाने के लाभ:-
हमारी दोनों हथेलियों में ऐसे दबाव बिंदु हैं जो एक दूसरी हथेली से जोर से एक साथ मारने से सक्रि य होते हैैं। हमारे शरीर के रक्त कणों को शक्ति मिलती है। इस शक्ति से शरीर की शक्ति प्रभावित होती है।
इसके अतिरिक्त ताली योग से पाचन प्रणाली दुरूस्त रहती है। कब्ज, गैस, अपच और भूख न लगने जैसी समस्याओं में सुधार आता है। अगर आप इनमें से किसी भी समस्या से परेशान हैं तो प्रात: नियमित 5 मिनट तक ताली योग का अभ्यास करें। अपने दाएं हाथ की 4 उंगलियों को बायों हाथ की हथेली पर जोर से मारें ध्यान रखें ताली की आवाज एक सी रहे। धीरे धीरे आप अपनी समस्या से निपट पाएंगें।
हड्डियों और जोड़ों के दर्द में भी ताली योग लाभप्रद है। कमर दर्द, गठिया, जोड़ों का दर्द, गर्दन दर्द होने पर दोनों हाथों को आपस में मिलाते हुए नियमित रूप से 10 मिनट तक ताली योग का अभ्यास करें। धीरे धीरे रोगसे छुटकारा मिलना प्रारंभ हो जाता है।
जिन लोगों का ब्लडप्रेशर कम रहता हो उनके लिए ताली योग बहुत लाभप्रद है। इसके लिए ताली खड़े होकर बजानी होती है। दोनों हाथों को सामने से ताली बाते हुए नीचे से ऊपर गोलाकर घुमाएं। इसका नियमित अभ्यास ब्लडप्रेशर को सामान्य बनाता है, साथ ही ।दय ,फेफड़े भी सबल बनते हैं।
सुनीता गाबा

Share it
Share it
Share it
Top