टेलीकॉम क्षेत्र में कॉन्सालिडेशन शुरू, चार-पांच कंपनियां ही बचेंगी: सिन्हा

टेलीकॉम क्षेत्र में कॉन्सालिडेशन शुरू, चार-पांच कंपनियां ही बचेंगी: सिन्हा

नयी दिल्ली। संचार मंत्री मनोज सिन्हा ने आज कहा कि दुनिया के अधिकतर देशों में दो से तीन टेलीकॉम ऑपरेटर हैं और अब भारत में भी इस उद्योग में कॉन्सालिडेशन शुरू हो गया है जिससे अगले कुछ वर्ष में चार-पांच ऑपरेटर ही बाजार में रह जाएंगे। श्री सिन्हा ने मोदी सरकार की तीन वर्ष की उपलब्धियों पर चर्चा करने के दौरान यहां संवाददाताओं से कहा कि भारतीय टेलीकॉम क्षेत्र सबके लिए खुला हुआ है और कोई भी व्यक्ति इस उद्योग में आ सकता है। एक नये ऑपरेटर के आने के बाद टेलीकॉम क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा बढ़ी है और उम्मीद है कि इस क्षेत्र में स्वस्थ और ईमानदार प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा मिलेगा जिससे इस उद्योग के विकास में तेजी आयेगी। उनसे पूछा गया था कि एक नये ऑपरेटर के आने के बाद टेलीकॉम उद्योग में जारी गलाकट प्रतिस्पर्धा के कारण इस क्षेत्र में काम करने वालों की छंटनी शुरू हो गयी है और लोग बेरोजगार होने लगे हैं।
यूपी के 174 पीसीएस अधिकारियों का तबादला, मुज़फ्फरनगर के भी 2 शामिल
श्री सिन्हा ने नये ऑपरेटर के आने के कारण नौकरी जाने से इन्कार करते हुये कहा कि इस उद्योग का जिस गति से विकास हो रहा है उससे इस क्षेत्र में रोजगार के नये अवसर सृजित हो रहे हैं। उल्लेखनीय है कि उद्योगपति मुकेश अंबानी की दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो के पिछले वर्ष सेवा शुरू करने के बाद इस उद्योग में’टैरिफ वार’शुरू हो गया है जिससे छोटी-छोटी टेलीकॉम कंपनियों के साथ ही बड़ी-बड़ी कंपनियों के राजस्व पर भी भारी दबाव बना है। इसके बाद दूसरी बड़ी दूरसंचार कंपनी वोडाफोन इंडिया और तीसरी बड़ी कंपनी आइडिया सेलुलर के विलय की प्रक्रिया जारी है। सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी एयरटेल, टेलीनॉर का अधिग्रहण कर रही है। रिलायंस कम्युनिकेशंस अपने कारोबार का कॉन्सालिडेशन करने की प्रक्रिया शुरू कर रखी है और वह अपनी जीएसएम सेवा को एयरसेल के हवाले करने जा रही है। 

Share it
Top