टी ट्री ऑयल करता है त्वचा और बालों की सही देखभाल..!

टी ट्री ऑयल करता है त्वचा और बालों की सही देखभाल..!

 महिलाओं को खूबसूरत दिखना,त्वचा का खिला खिला लगना और चमकदार बालों का होना बहुत अच्छा लगता है। वह अपनी त्वचा का खूबसूरती बरकरार रखने के लिए कुछ भी कर सकती हैं। बदलते मौसम में त्वचा और बाल अतिरिक्त देखभाल चाहते हैं क्योंकि त्वचा और बाल रूखे और बेजान होने लगते हैं अगर उनकी सही देखभाल न की जाए। टी ट्री ऑयल के सही उपयोग से हम अपनी त्वचा और बालों की खूबसूरती को बरकरार रख सकते हैं। जानिए इसके प्रयोग के बारे में:-
स्वस्थ त्वचा के लिए करें प्रयोग:-

त्वचा स्वस्थ रहे, इसके लिए टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदें रूई के फाहे पर डालकर चेहरे और गर्दन की त्वचा पर लगाएं। अगर आपकी त्वचा पर मुंहासों के दाग हैं तो प्रभावित स्थान पर इस ऑयल को रूई के फाहे से लगाएं। दाग दूर होंगे। टी ट्री ऑयल युक्त फेसवाश और जेल का प्रयोग भी त्वचा को स्वस्थ रखने हेतु कर सकते हैं।
खुश्क त्वचा के लिए करें प्रयोग:-

अगर आपकी त्वचा खुश्क है तो 5 चम्मच टी ट्री ऑयल और एक चम्मच बादाम तेल को मिलाएं। नहाने से पूर्व चेहरे और शरीर पर हल्के से मालिश करें 10 मिनट पश्चात सामान्य पानी से स्नान करें। ऐसा करने से त्वचा में नमी बनी रहेगी त्वचा नर्म, मुलायम और चमकदार बनेगी।
फंगल इंफेक्शन होने पर करें इसका प्रयोग:-

टी ट्री ऑयल में एंटीसेप्टिक गुण होने के कारण इसका प्रयोग फंगल इंफेक्शन वाले प्रभावित स्थान पर कर सकते हैं। नाखूनों के फंगल इंफेक्शन होने पर इसका प्रयोग किया जा सकता है। चाहें तो इसकी पत्तियों को पानी में उबाल कर उस स्थान को साफ करें या इसके तेल को पानी में मिलाकर लगाने से लाभ होगा। त्वचा की खुजली, लालिमा को भी दूर करता है।
सर्दियों में ही हमारी त्वचा अधिक रूखी होती है..बॉय बॉय करें रूखी त्वचा को..!

फोड़ा, मस्सा, दाद-खाज होने पर:-

फोड़े- फुंसी होने पर इस तेल का प्रयोग लाभकरी होता है। अगर कहीं मस्सा हो तो उस मस्सों पर तेल को लगाएं, कुछ दिन के प्रयोग से मस्सा खुद ही खत्म हो जाएगा। ध्यान रखें अगर आपकी आपकी त्वचा अधिक संवेदनशील हैं तो प्रयोग करने से पीले टेस्ट कर लें। टी ट्री ऑयल त्वचा को सुरक्षित रखने में मदद करता है।
कट लग जाने पर:-
कहीं भी त्वचा पर सब्जी काटते हुए, शेव करते हुए कट लग जाए तो इस तेल को रूई के फाहे की सहायता से प्रभावित जगह पर लगाने से लाभ होगा। इसे कष्ट वाले स्थान पर सीधे लगाने से राहत मिलेगी।
रेशैज होने पर:-
कीड़े के काटने से खुजली या जलन होने पर भी इस तेल का प्रयोग लाभप्रद है। अगर त्वचा पर वैसे ही खुजली हो रही हो तो नहाते समय पानी में कुछ बूंदें तेल की मिलाएं और उससे स्नान करें तो राहत मिलेगी। कुछ दिन तक नियमित स्नान करते हुए तेल की बूंदें पानी में मिलाना न भूलें।
मुंहासों से दिलाता है राहत:-
टी ट्री ऑयल मुंहासों से छुटकारा पाने के लिए प्राकृतिक रूप से काम करता है। इसके लगाने से त्वचा से निकलने वाले सीबम की मात्रा को कम करता है। इसका प्रयोग ऐसे करें। 2-3 बूंदें टी ट्री ऑयल की, एक चम्मच शहद और एक चम्मच दही में मिलाकर मिश्रण तैयार करें। अब इस मिश्रण को मुंहासों पर लगाएं। मिश्रण पतला होना चाहिए और परत भी हल्की लगाएं। 15-20 मिनट के बाद चेहरा धो लें। कुछ सप्ताह तक नियमित प्रयोग से मुंहासों से राहत मिल जाएगी।
कहानी- शीतकाल का स्वर्ग-कोवलम सागर तट

बाजार में अब टी ट्री ऑयल के साबुन भी उपलब्ध हैं। नहाते हुए इनका प्रयोग कर पसीने की बदबू से छुटकारा पा सकते हैं। क्योंकि टी ट्री ऑयल एंटीवायरल और एंटी फंगल होने के कारण इसका प्रयोग त्वचा हेतु लाभप्रद है।
बालों के लिए भी लाभप्रद:-

इस तेल का प्रयोग बालों की जुड़ों में लगा सकते हैं इससे बालों की जड़ों को पोषण मिलता है। टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदें किसी भी तेल में मिलाकर बालों की जड़ों में लगाएं।
शैंपू करते समय शैंपू में इसके तेल की कुछ बूंदें मिलाकर शैंपू करने से आपके बालों में डैंड्रफ की शिकायत दूर होगी। इस शैंपू मिश्रण का प्रयोग नियमित कुछ समय तक करते रहें। अगर बाल रूखें हैं तो जोजोबा तेल में इस तेल को मिलाएं और जड़ों में मालिश कर समय हेतु छोड़ दें। बाद में सिर धोएं। ऐसा करने से बाल नर्म और चमकदार होंगे।
– नीतू गुप्ता

Share it
Share it
Share it
Top