टीसीएस और इंफोसिस में बिकवाली से सेंसेक्स फिसला

टीसीएस और इंफोसिस में बिकवाली से सेंसेक्स फिसला

मुंबई। एशियाई बाजारों से मिले नकारात्मक संकेत तथा दिग्गज सूचना प्रौद्योगिकी कंपनियों टीसीएस और इंफोसिस के शेयरों में हुई बिकवाली से आज तीन दिन बाद घरेलू शेयर बाजारों में मामूली गिरावट रही। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 9.10 अंक फिसलकर 27,238.06 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 6.85 अंक टूटकर 8,400.35 अंक की गिरावट में रहा। सेंसेक्स की शुरुआत अच्छी रही। यह 130.85 अंक की तेजी के साथ 27,378.01 अंक पर खुला और कुछ ही देर में यह 27,459.75 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर पर पहुँच गया। लेकिन, इसके बाद टीसीएस और इंफोसिस में शुरू हुई बिकवाली से आधे घंटे में ही यह लाल निशान में चला गया।
टीसीएस के वर्तमान मुख्य कार्यकारी अधिकारी नटराजन चंद्रशेखरन् को टाटा समूह का कार्यकारी अध्यक्ष बनाये जाने के बाद कंपनी के शीर्ष प्रबंधन में बदलाव के इसके शेयरों में बिकवाली रही। हालाँकि, शुक्रवार को बाजार बंद होने के बाद जारी परिणाम के अनुसार तीसरी तिमाही में कंपनी का प्रदर्शन अच्छा रहा और मुनाफा 11.25 प्रतिशत बढ़ा है।
इंफोसिस का प्रदर्शन भी तीसरी तिमाही में अच्छा रहा, लेकिन पूरे वित्त वर्ष के लिए राजस्व अनुमान घटाने से उसके शेयरों में मुनाफा वसूली देखी गयी। सेंसेक्स ने कारोबार के दौरान गिरावट से उबरने की कोशिश भी, लेकिन दोनों दिग्गज कंपनियों के दबाव में हरे निशान में नहीं लौट पाया। कारोबार के दौरान 27,143.07 अंक के दिवस के निचले स्तर को छूने के बाद यह गत दिवस की तुलना में 0.03 फीसदी यानी 9.10 प्रतिशत नीचे 27,238.06 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी भी 50.45 अंक चढ़कर 8,457.65 अंक पर खुला। इसका दिवस का उच्चतम स्तर 8,461.05 अंक तथा निचला स्तर 8,373.15 अंक रहा। कारोबार की समाप्ति पर यह 0.08 अंक फिसलकर 6.85 अंक पर रहा। मझौली कंपनियों पर भी दबाव रहा जबकि छोटी कंपनियों में मामूली तेजी रही। बीएसई का मिडकैप 0.03 प्रतिशत गिरकर 12,639.03 अंक पर तथा स्मॉलकैप 0.03 प्रतिशत चढ़कर 12,689.85 अंक पर बंद हुआ।
किसकी होगी ‘साईकिल’ ! सोमवार को होगा फैसला
बीएसई में कुल 2,906 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ। इनमें 1,486 में गिरावट तथा 1,237 में बढ़त रही जबकि 183 के शेयरों के भाव अपरिवर्तित रहे। अधिकतर एशियाई बाजार गिरावट में रहे। चीन का शंघाई कंपोजिट 0.22 प्रतिशत, जापान का निक्की 0.34 प्रतिशत तथा दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.50 प्रतिशत लुढ़क गया। हालाँकि, हांगकांग के हैंगसेंग में 0.47 प्रतिशत की बढ़त रही। लगभग सभी यूरोपीय बाजार हरे निशान में रहे। ब्रिटेन का एफटीएसई शुरुआती कारोबार में 0.37 प्रतिशत की तेजी में रहा।
बीएसई के 20 में से 14 समूहों में गिरावट रही जबकि अन्य छह तेजी में रहे। आईटी समूह में सर्वाधिक 1.89 प्रतिशत की गिरावट रही। टेक समूह 1.72 तथा दूरसंचार समूह 1.19 प्रतिशत लुढ़का। इनके अलावा पीएसयू, बेसिक मटिरियल्स, सीडीजीएंडएस, इंडस्ट्रियल्स, यूटिलिटीज, ऑटो, पूँजीगत वस्तुएँ, टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद, धातु, पावर और रियलिटी समूहों का सूचकांक भी लाल निशान में रहा।
सबसे ज्यादा 1.21 प्रतिशत की तेजी एफएमसीजी समूह में रही। एनर्जी, फाइनेंस, स्वास्थ्य, बैंकिंग तथा तेल एवं गैस समूहों में लिवाली का जोर रहा।
नोटबंदी जांच : मोदी को नहीं बुला सकती लोक लेखा समिति !
सेंसेक्स की 30 में से 17 कंपनियों के शेयर लाल निशान में रहे। देश की सबसे बड़ी सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी टीसीएस के शेयर 3.90 प्रतिशत, इंफोसिस के 2.49, एनटीपीसी के 1.55, मारुति सुजुकी के 1.46, हीरो मोटोकॉर्प के 1.14, डॉ. रेड्डीज लैब के 0.93, बजाज ऑटो के 0.86, एलएंडटी के 0.74, टाटा मोटर्स के 0.71, भारती एयरटेल के 0.50, आईसीआईसीआई बैंक के 0.32, सिप्ला तथा टाटा स्टील दोनों के 0.30, पावर ग्रिड के 0.20, एचडीएफसी के 0.15, भारतीय स्टेट बैंक के 0.08 तथा अदानी पोट्र्स के 0.02 प्रतिशत टूटे।
मुनाफा कमाने वालों में एक्सिस बैंक के शेयर 3.90 प्रतिशत चढ़े। गेल में 2.30, आईटीसी में 2.13, एचडीएफसी में 1.97, सनफार्मा में 1.14, ओएनजीसी में 0.90, कोल इंडिया में 0.70, रिलायंस इंडस्ट्रीज में 0.65, ल्युपिन में 0.35, विप्रो में 0.28, हिंदुस्तान यूनिलिवर में 0.27, महिंद्रा एंड महिंद्रा में 0.17 तथा एशियन पेंट््स में 0.01 प्रतिशत की तेजी रही।

Share it
Top