जैली बनाइए और खिलाइए…नाशपाती की स्वादिष्ट जैली

जैली बनाइए और खिलाइए…नाशपाती की स्वादिष्ट जैली

jali फलों के गूदे एवं रस को उबाल कर उसमें आवश्यकतानुसार चाशनी मिलाकर आधुनिक ढंग से तैयार किये जाने वाले खाद्य पदार्थ को ‘जैली’ कहकर पुकारा जाता है। विभिन्न प्रकार के फलों से बनाये जाने वाली जैली का वर्णन यहां प्रस्तुत है:-
टमाटर की जैली

सामग्री:- टमाटर (अधपके) दो किलो, सेब एक किलो, चीनी 100 ग्राम, एक नींबू का रस।
विधि:- टमाटर तथा सेबों को अच्छी तरह धो लें। फिर इनके छोटे-छोटे टुकड़े कर लें। सेब के बीच से बीजों को निकालकर फेंक दें। अब इन टुकड़ों को किसी स्टील के बरतन में रखकर पानी मिलाये बगैर ही आंच पर चढ़ा दें। जब वे अच्छी तरह से गल जायें तो उन्हें उतार कर ठंडा करके किसी पतले साफ कपड़े या छलनी की सहायता से छान लें। छने हुए रस में चीनी मिला कर धीमी आंच पर पकाइये। पकते-पकते जब यह गाढ़ा होने लग जाय अर्थात् जब उसका तापमान 221 डिग्री फारनहाइट तक पहुंच जाये तो इसमें नींबू के रस को डालकर चला दीजिए और आग से नीचे उतार दीजिए। ठंडा होने पर इसे मर्तबान या किसी साफ कोच की शीशी में डालकर रख लीजिए। भोजन करते समय इसे चम्मच से निकाल कर परोसिए। इसमें टमाटर व सेब दोनों का स्वाद आयेगा।
खाना परोसना भी एक कला है..खाने वाले को भी तभी आता है स्वाद

नाशपाती की जैली
सामग्री:- नाशपाती 2 किलो, चीनी 100 ग्राम, 20 ग्राम नींबू का रस, तथा चार इलायचियों के दाने का पाउडर।
विधि:- अच्छी एवं स्वस्थ नाशपातियों को लेकर अच्छी तरह से धो लीजिए। फिर उसके छोटे-छोटे टुकड़े कर लीजिए। नाशपाती के बीच के बीजों को निकालकर फेंक दीजिए। अब इन टुकड़ों को एक स्टील के बरतन में रखकर उसमें इतना पानी डाल दीजिए जिससे वे टुकड़े डूब जायें। आग पर चढ़ाकर उबालिये।
जब सभी टुकड़े अच्छी तरह गल जायें तो उतारकर, मथकर कपड़े या छलनी से छानकर उसका रस निकाल लीजिए। रात भर उस रस को वैसे ही रहने दीजिए तथा सुबह उसे निथार कर फिर से आग पर चढ़ा दीजिए और उसमें चीनी तथा इलायची का पाउडर डाल दीजिए। जब वह गाढ़ा हो जाय तो उसमें नींबू का रस डालकर, मिलाकर उतार लें और ठंडा होने पर मर्तबान में भरकर रख लें।
आम की जैली
सामग्री:- आम का कच्चा फल 2 किलो, चीनी 200 ग्राम, साइट्रिक एसिड 2 ग्राम।
विधि:- कच्चे आम के फलों को लेकर अच्छी तरह धोकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लीजिए। फिर इसे स्टील या एल्यूमीनियम के बर्तन में डाल कर इतना पानी डाल दीजिए जिससे वे पूरी तरह डूब जायें। फिर इसे आधा घंटा तक उबालकर रस को कपड़े या छलनी से छान लें। छने हुए रस में चीनी डालकर उसे गाढ़ा होने तक पकाइये। जब गाढ़ा हो जाय तो इसमें दो ग्राम साइट्रिक एसिड डालकर अच्छी तरह मिलाकर उतार लीजिए। अगर रस अधिक खट्टा हो तो साइट्रिक एसिड डालने की कोई आवश्यकता नहीं है। इसे मर्तबान में डालकर रख दीजिए। आम की स्वादिष्ट जैली तैयार है।
सेब की जैली

सामग्री:- सेब 2 किलो, चीनी 100 ग्राम, साइट्रिक एसिड 2 ग्राम या तीन-चार कागजी नींबू का रस।
विधि:- सेब को अच्छी तरह धोकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें। फिर उसे स्टील की डेगची में रखकर पानी डालकर पकने तक उबालिये। जब पूरी तरह पक जाये तो उसे उतारकर एक मोटे कपड़े के सहारे छानकर पूरा रस निचोड़ लीजिए। फिर इस रस को आग पर चढ़ा कर इसमें चीनी डाल दीजिए। जब रस कुछ गाढ़ा होने लगे तो साइट्रिक एसिड या कागजी नींबू का रस डाल दें। जब रस गाढ़ा हो जाये तो उसे उतार लें। रस को पकाते समय ऊपर आने वाली उजली झाग को निकालते रहना चाहिए। आग से उतारकर ठण्डा होने पर इसे चौड़ी मुंह वाली शीशी में रख दीजिए और आवश्यकता के अनुसार निकालकर प्रयोग करें। अगर जैली को अधिक दिनों तक रखना हो तो शीशी के मुंह पर मोम पिघलाकर लगा दिया जाता है।
– पूनम दिनकरआप ये ख़बरें अपने मोबाइल पर पढना चाहते है तो दैनिक रॉयलunnamed
बुलेटिन की मोबाइलएप को डाउनलोड कीजिये….गूगल के प्लेस्टोर में जाकर
royal bulletin
टाइप करे और एप डाउनलोड करे..आप हमारी हिंदी न्यूज़ वेबसाइट
www.royalbulletin.com
और अंग्रेजी news वेबसाइटwww.royalbulletin.in को भी लाइक करे.

Share it
Top