गुरु शिष्य परंपरा बचाने की जरूरत: स्मृति

गुरु शिष्य परंपरा बचाने की जरूरत: स्मृति

smriti-iraniप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में केंद्रीय वस्त्र मंत्री स्मृति ईरानी ने हस्तशिल्पियों के लिए आज गुरु शिष्य परंपरा की सात नई परियोजनाओं की शुरूआत एवं दस्तकार चौपाल का उद्घाटन करते इन परियोजनाओं के लिए 31 करोड़ रुपये प्रदान करने घोषणा की। उन्होंने कहा कि गुरु शिष्य परंपरा से वाराणसी के पारंपरिक ज्ञान की अनमोल विरासत के संरक्षण एवं नई पीढ़ी के माध्यम से उसे आगे बढ़ाने में काफी मदद मिलेगी। इसके लिए केंद्र सरकार पर्याप्त आर्थिक मदद एवं समुचित सुविधाएं मुहैया करायेगी। श्रीमती ईरानी ने कहा कि पहले चरण के तहत आज 21 हजार हस्तशिल्पियों को बैंकों के जरिये आसान शर्तों पर आर्थिक मदद, मुफ्त जीवन बीमा, पहचान पत्र आदि देने के कार्य की शुरूआत की गई है। अगले दो वर्षों में वाराणसी के सभी 90 हजार हस्तशिल्पियों को इसी प्रकार की मदद करने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि हस्तशिल्पियों को वैश्विक स्तर पर खुद व्यापार करने में सक्षम बनाया जाएगा, ताकि उन्हें किसी बिचौलिये के शोषण का शिकार न होना पड़े और वे अपने सामानों का वास्तविक मूल्य प्राप्त कर सकें। सरकार की ओर से ऐसी कोशिश होगी के हस्तशिल्पी अपने छोटे समुह बनाकर बिना किसी बिचौलिये के विश्व स्तरीय व्यापार में भाग ले सकें।
हस्तशिल्पियों को मार्किटिंग, टेक्नॉलोजी, ई-कामर्स एवं डिजिटल दुनियां के मुताबिक जरूरी प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि वे व्यापार करने में उन्हें किसी प्रकार की असुविधा न हो। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि वाराणसी के अलग-अगले सात हस्तशिल्पियों को गुरु की पदवी से सम्मानित किया है। उनके नामों की घोषणा करते हुए उन्होंने कहा कि गोदावरी सिंह, काजीम रजा, पुंज बिहारी सिंह, शिवपुजन जायसवाल, राम आधार प्रजापति, सुरेश कुमार और महेश कुमार सुमन जैसे विभिन्न प्रकार के हस्तशिल्प कलामों के माहिल लोगों को केंद्र सरकार ने गुरू की पदवी दी है। उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि अब ये गुरू नई पीढ़ी के माध्यम से पारंपरिक ज्ञान की विरासत को आगे बढाने में अपना योगदान देंगे। श्रीमती ईरानी ने कहा कि सात परियोजनाओं में लकड़ी, जरी एवं जरदोजी, गुलाबी मीनाकारी एवं कृत्रिक ज्वैलरी, सोप स्टोन, टेरा कोटा एवं पॅटरी, बीड वर्क और हस्त ठप्पा की हैं। ये परियोजनाएं अगले साल 16 अप्रैल तक पूर्ण होंगी। हर क्षेत्र से 15 लोगों को हस्तशिल्प का प्रशिक्षण दिया जाएगा।
वाराणसी के एसएसपी भी हटे, नितिन तिवारी नए एसएसपी, बुलंदशहर समेत कई और SSP बदले
सिद्ध हस्तशिल्पियों को 25 हजार रुपये प्रति माह मान्यदेय दिया जाएगा। वाराणसी की हस्तशिल्प धरोहरों के संरक्षण के लिए यहां एक म्यूजियम बनाने की घोषणा करते हुए उन्होंने कहा कि इससे आने वाली पीढ़ी अपने पारंपरिक ज्ञान के विरासत रुबरू हो सकेंगी।
वाराणसी भगदड़ में एडीएम सिटी विंध्यवासिनी राय व सिटी मजिस्ट्रेट वी.बी.सिंह भी निलंबित
हस्त ठप्पा छपाई में इस्तेमाल लड़की के ठप्पे एवं हस्तशिल्पियों के उपयोग में आने वाली चीजों को म्यूजियम में प्रदर्शित किया जाएगा। इसके लिए केंद्र सरकार समुचित आर्थिक मदद देगी। चौका घाट के सांस्कृतिक संकुल परिसर में आज शुरू दस्तकार चौपाल आगामी नौ नवंबर तक वाराणसी के गाय घाट, रामनगर, सुंदरपुर, खेजवा, लल्लापुरा, चांदपुर, अमरा, दारानगर, पठानी टोला आदि इलाकों में लगाये जाएंगे। समारोह में श्रीमती ईरानी सहित उपस्थित तमाम लोगों ने कल वाराणसी के राजघाट पर मची भगदड़ में मारे गए जय गुरू देव अनुयायियों की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रखा गया और घायलों के शीघ्र स्वस्थ्य होने की कामना की गई। आप ये ख़बरें और ज्यादा पढना चाहते है तो दैनिक रॉयल unnamed
बुलेटिन की मोबाइलएप को डाउनलोड कीजिये….गूगल के प्लेस्टोर में जाकर
royal bulletin
टाइप करे और एप डाउनलोड करे..आप हमारी हिंदी न्यूज़ वेबसाइट
www.royalbulletin.com
और अंग्रेजी news वेबसाइटwww.royalbulletin.in को भी लाइक करे..कृपया एप और साईट के बारे में info @royalbulletin.com पर अपने बहुमूल्य सुझाव भी दें…

Share it
Top