गुणों का खजाना ‘मेथीदाना’..सस्ता और सर्वत्र सुलभ ..!

गुणों का खजाना ‘मेथीदाना’..सस्ता और सर्वत्र सुलभ ..!

 मेथीदाना का नाम तो अधिकांश लोगों ने सुना होगा पर इसके गुण लाभ के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। तो लीजिए प्रस्तुत हैं मेथीदाने के विषय में उपयोगी जानकारी:-
– एक पौष्टिक खाद्य:- सस्ता और सर्वत्र सुलभ मेथीदाना रक्तशोधक वात-पित्त-कफ शामक, कब्ज़ निवारक, पुष्टिदायक, शक्ति और स्फूर्तिदायक टॉनिक है। अत: हमें प्रतिदिन सुबह-शाम कच्चा साबुत मेथीदाना एक छोटा चम्मच भर कर पानी के साथ निगलना चाहिए।
– मोटापा:- मेथीदाने का प्रतिदिन सेवन करते रहने से पेट बड़ा नहीं होता, मोटापा नहीं होता, दुबलापन भी नहीं होता। वजन घटाने या बढ़ाने के लिए मेथी का सेवन करना अत्यंत गुणकारी होता है।
– घुटने एवं जोड़:- प्रतिदिन सुबह पानी के साथ एक चम्मच मेथीदाना खाते रहने से घुटने व शरीर के जोड़ मज़बूत रहते हैं। इनमें दर्द नहीं होता और पूरे जीवन में गठिया, आमवात, लकवा, मधुमेह, रक्तचाप आदि रोग नहीं होते।
सर्दियों में होने वाले रोग..बचने के लिए गुनगुने जल का सेवन करें !

– कब्ज़:- अकेला कब्ज ही कई बीमारियों की जड़ है। सुबह शाम नियमित मेथीदाना पानी के साथ निगलने से कैसा भी कब्ज़ हो, दूर हो जाता है। पेट में जाकर फूलता है, आंतों को चिकना व तर करके मल छुड़ाता है। इसे पचाना नहीं पड़ता, इसकी लेई नहीं बनती और यह आंतों का परिमार्जन कर उदर को निरोग और सक्षम बनता है।
– वात व्याधि:- मेथीदाना खाने वाले को वात-प्रकोप नहीं होता और यदि हो तो दूर हो जाता है। वात, पित्त और कफ के कुपित होने से कई प्रकार के रोग होते हैं। मेथीदाना वात, पित्त कफ को संतुलित रखता है इसलिए मेथीदाने का सेवन करते रहने से ये रोग नहीं होते।
मुट्ठी में कर लें बढ़ती उम्र..अपने कपड़े एवं लुक पर समय-समय पर ध्यान दें

– भूख और नींद:- आज आदमी की भूख भी कम हो गई है और नींद भी, बल्कि कई तो अनिद्रा रोग से पीडि़त हैं और रात भर सो नहीं पाते। ऐसी स्थिति में मेथीदाने का सेवन अवश्य करना चाहिए। मेथी दाना हमारे शरीर और स्वास्थ्य का परम मित्र है।
मेथी की भाजी, मेथी दाल, दही मेथी, पापड़ मेथी, मेथी दाने का बघार लगी सब्ज़ी आदि का सेवन जरूर करना चाहिए। मेथीदाने का सेवन पूरे वर्ष भर किया जा सकता है।
– उमेश कुमार साहू
 

Share it
Share it
Share it
Top