खाद्य पदार्थों के सस्ता होने से थोक महँगाई में राहत

खाद्य पदार्थों के सस्ता होने से थोक महँगाई में राहत

mehangaiनई दिल्ली। खुदरा महँगाई के बाद सितंबर में थोक महँगाई भी कम हुई है। हरी सब्जियों, प्याज तथा दूध के साथ रसोई गैस तथा खनिज आदि के सस्ता होने से यह घटकर तीन महीने के निचले स्तर 3.57 प्रतिशत पर आ गयी।
इस साल अगस्त में थोक मूल्य सूचकांक आधारित मु्द्रास्फीति की दर 3.74 प्रतिशत तथा पिछले साल सितंबर में शून्य से 4.59 प्रतिशत पर रही थी। इससे पहले गुरुवार को जारी आँकड़ों के अनुसार, सितंबर में खुदरा महँगाई भी घटकर 13 महीने के निचले स्तर 4.31 प्रतिशत पर आ गयी। चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में अप्रैल से सितंबर के बीच औसत थोक महँगाई दर 4.28 प्रतिशत रही है जबकि पिछले वित्त वर्ष की पहली छमाही में यह 0.23 प्रतिशत रही थी। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय से प्राप्त आँकड़ों के अनुसार, खाद्य पदार्थों की महँगाई दर अगस्त के 8.23 प्रतिशत की तुलना में बड़ी गिरावट के साथ 5.75 प्रतिशत पर आ गयी। यह गिरावट मुख्य रूप से प्याज तथा हरी सब्जियों के दाम में कमी के कारण देखी गयी है। सितंबर 2015 की तुलना में गत सितंबर में प्याज 70.52 प्रतिशत तथा सब्जियाँ 10.91 प्रतिशत सस्ती हुई हैं। वहीं आलू के दाम 73.31 प्रतिशत बढ़े हैं।
लालू ने कहा , बिहार ने भाजपा को पटक-पटक कर धोया.. अब यूपी वालों की बारी
  अन्य खाद्य पदार्थों में अगस्त की तुलना में फलों तथा दूध की महँगाई दर बढ़कर क्रमश: 14.10 प्रतिशत तथा 3.71 प्रतिशत पर पहुँच गयी। अन्य खाद्य पदार्थों की महँगाई दर अगस्त की तुलना में कम हुई है। मोटे अनाजों के लिए यह 6.84 प्रतिशत, चावल के लिए 4.66 प्रतिशत, गेहूँ के लिए 7.01 प्रतिशत, दालों के लिए 23.99 प्रतिशत तथा अंडे और मांस-मछली के लिए 7.44 प्रतिशत रही। अखाद्य प्राथमिक उत्पादों में साल दर साल आधार पर खनिजों के दाम 5.01 प्रतिशत घट गये जबकि फाइबर 18.74 प्रतिशत महँगे हो गये। ईंधन एवं बिजली वर्ग के उत्पादों की महँगाई दर 5.58 प्रतिशत रही है। इसमें रसोई गैस 1.30 प्रतिशत सस्ती हुई है जबकि डीजल 19.08 प्रतिशत महँगा हुआ है। पेट्रोल की महँगाई दर 1.25 प्रतिशत रही। विनिर्मित उत्पादों में इस्पात तथा सेमीज 6.40 प्रतिशत, धातु तथा मिश्र धातु तथा इनके उत्पाद 1.23 प्रतिशत तथा सिंथेटिक कपड़े 1.37 प्रतिशत सस्ते हुये। इस श्रेणी में सबसे ज्यादा महँगाई दर 3.40 प्रतिशत लकड़ी तथा इसके उत्पादों की रही। सूती कपड़े भी 3.01 प्रतिशत महँगे हुये।आप ये ख़बरें और ज्यादा पढना चाहते है तो दैनिक रॉयल unnamed
बुलेटिन की मोबाइलएप को डाउनलोड कीजिये….गूगल के प्लेस्टोर में जाकर
royal bulletin
टाइप करे और एप डाउनलोड करे..आप हमारी हिंदी न्यूज़ वेबसाइट
www.royalbulletin.com
और अंग्रेजी news वेबसाइटwww.royalbulletin.in को भी लाइक करे..कृपया एप और साईट के बारे में info @royalbulletin.com पर अपने बहुमूल्य सुझाव भी दें…    

Share it
Top