क्यों होती है एलर्जी..एलर्जी की बीमारी में परहेज इलाज से बेहतर है..!

क्यों होती है एलर्जी..एलर्जी की बीमारी में परहेज इलाज से बेहतर है..!

 आज के माहौल में खाने की मेज एक भयानक और खौफनाक किस्सा बन गई है। वह हंस खेल के खाना, खूब मजे से खाना तो एक सपने के समान हो गया है। अब तो हर निवाले से पहले इंसान सोचता है कि इसे खाने से हमें एलर्जी तो नहीं होगी।
आप देखते होंगे कि लोगों को नई नई किस्म की एलर्जी हो रही है। किसी की सांस फूल जाती है तो किसी को खुजली शुरू हो जाती है। किसी को उलटी आती है, कई लोगों को दाने निकल आते हैं लेकिन यह पता लगाना मुश्किल है कि किस वस्तु को खाने से क्या हो जाता है जैसे रूपा को चने की दाल और बेसन से एलर्जी है।
एलर्जी है क्या? किसी व्यक्ति को एक साधारण खाने के पदार्थ से अजीब प्रभाव हो जाए तो उसे एलर्जी कहते हैं जैसे लोगों को धुएं से, विशेषत: गाडिय़ों के धुएं से बहुत नुक्सान होता है। इसी तरह कई खाने के पदार्थों से सेहत पर खतरनाक असर भी हो सकता है। कई लोगों को अंडा खाने से नुक्सान होता है और कई लोग मछली या मशरुम बिलकुल नहीं खा सकते।
कई बच्चे तो जन्म से ही दूध नहीं हजम करते। मैं एक स्त्री को जानती हूं जिसने एक दिन भी दूध नहीं पिया है। उसे पनीर के पानी से पालना पड़ा। यह इसलिए होता है कि जिस एंजाइम से वह खाना पचता है, वह उसके जिस्म में मौजूद नहीं है इसलिए दूध हजम होता ही नहीं है।
किचन में छुपा है आपके सौन्दर्य का राज़..!

एलर्जी तब होती है जब कोई भी खाने का पदार्थ आपके शरीर में पचने की बजाये शरीर पर हमला करता है। इससे खाना हजम करने की प्रकिया में कई बातें उलट पुलट हो जाती हैं। कई लोगों को जुकाम लगता है तो कई लोगों को फोड़े फुंसी आदि निकल आते हैं। किसी का हाजमा खराब हो जाता है और सेहत पर बुरा असर होता है।
आजकल देखा गया है कि दूध न पचने की बीमारी कई लोगों में है। यह तब होता है जब आपके जिस्म में लैक्टोस की कमी हो। दूध को पचाने में लैक्टोस मदद करता है और इसकी कमी से आपके पूरे हाजमे पर असर पड़ता है। तो फिर आप क्या करें? आपको ऐसे में दूध के अलावा और कुछ ले लेना चाहिये। इसका एक बहुत आसान तरीका है। आप सोयाबीन का दूध जो आजकल आम मिलता है, पी सकते हैं। इसको आप चाय में भी डाल सकते हैं और इसका दही भी जमा सकते हैं।
उपाय तो कई मिल सकते हैं लेकिन एलर्जी एक ऐसी समस्या है जिसका पता लगाना बहुत मुश्किल है। कोई व्यक्ति खाने के किस पदार्थ से एलर्जिक है इसके लिए उस व्यक्ति की पूरी जांच करनी पड़ती है। बचपन से लेकर उसकी खाने की आदतें, वह रोज क्या खाता है और किस दिन, किस खाने से क्या असर होता है, यह जानना बहुत जरूरी है।
देते हैं भगवान को धोखा, इन्सां को क्या छोड़ेंगे..?

कभी-कभी आप कोई चीज खाते हैं तो अचानक सिरदर्द या चक्कर आने शुरू हो जाते हैं। अगर बार बार ऐसा हो तो यकीनन आपको उस चीज से एलर्जी है। ऐसे में आपको वह खाना बिलकुल बंद करना पड़ेगा। उसकी जगह आप और कोई पदार्थ ले सकते हैं।
खाने पीने का थोड़ा सा ध्यान रखने से आपको किसी भी खाने से घबराने की जरूरत नहीं है। जिसको थोड़ा सा भी डर है कि उन्हें खाने से एलर्जी हो जाती है, उन्हें डिब्बाबंद खाना नहीं खाना चाहिये।
मीट, मछली खाने से पहले ध्यान रखें कि वह थोड़ा भी बासी न हो। खुद अपने आप को पहचानें कि कौन सा खाने का पदार्थ आपको नहीं पचता। एलर्जी की बीमारी में परहेज इलाज से बेहतर है।
– अम्बिका

Share it
Top