कोशिश करें कि सफल गृहिणी कहलाएं

कोशिश करें कि सफल गृहिणी कहलाएं

– अगर कुछ नया बना रहे हैं तो कोशिश करें कि चार्ट पर उसकी रेसिपी नोट कर लें ताकि अगली बार आवश्यकता होने पर उसमें सुधार किया जा सके। यदि अच्छी बनी हो तो अगली बार उसे दोहरा सकती हैं।
– किचन में एक पैड अवश्य रखें। उसके साथ मोटे धागे से बंधा पैन भी रखें ताकि कुछ समाप्त होने पर उसे नोट कर लिया जाए। यदि रसोई में आपके अलावा अन्य सदस्य भी काम करते हों तो उन्हें निर्देश दें कि चीज़ समाप्त होने से पहले उस पर नोट कर ली जाए ताकि आवश्यकता होने पर इधर उधर न ताकना पड़े और दिक्कतों का सामना न करना पड़े।
– घर में रोज सभी सदस्यों की पसंद का खाना बनाना तो मुश्किल है। प्रयास करें कि घर में एक एक दिन सबकी पसंद का खाना पकायें ताकि वैरायटी भी बनी रहे और घर के सदस्य भी खुश रहें।
– घर के काम को परिवार के सदस्यों की मदद से पूरा करें ताकि सब घर के प्रति जिम्मेदारी निभाएं और आपको भी सहयोग मिल सके। पति से मदद लेने में घबराएं नहीं। चाहे आप संयुक्त परिवार में है तो भी उनसे भी हल्की फुल्की मदद लेकर उन्हें भी घरेलू कार्यो में भागीदार बनायें। घर के सदस्यों से उनकी आयु और क्षमतानुसार मदद लें।
ढलती उम्र में सौंदर्य सुरक्षा
– रात्रि को सोने से पहले सभी दरवाजे, बिजली और गैस सिलिंडर बंद करने की जिम्मेदारी एक जिम्मेदार इंसान को सौंपें। यदि बच्चे छोटे हैं और आप एकल परिवार में रहते हैं तो यह जिम्मेदारी स्वयं लें पर बीच-बीच में पतिदेव को भी यह जिम्मेदारी निभाने का मौका दें ताकि जब आप घर से बाहर हों तो यह काम वे बखूबी कर सकें।
– कामकाजी महिला होने पर और एकाकी परिवार की जिम्मेदारी होने पर बिजली, नल, सीवर आदि की खराबी होने पर छुट्टी वाले दिन यह काम अपने सामने करवायें। काम के दिनों में यदि जरूरत आन पड़े तो शाम को जब आप घर पर हैं, तभी मैकेनिक को बुलायें। अपने बाद काम करने के लिए न बोल कर जाएं, न ही बच्चों पर यह जिम्मेदारी छोड़ें।
आप भी बन सकते हैं अच्छे जीवन-साथी
– बिजली, पानी, टेलीफोन, हाउस टैक्स आदि के बिल का भुगतान समय पर करें। हाउसवाइफ हैं तो यह काम आप स्वयं भी कर सकती हैं। यदि दोनों नौकरी करते हों तो घर के किसी सदस्य पर यह जिम्मेदारी डालें या किसी एजेन्सी की मदद लें। इन बिलों को एक निश्चित स्थान पर रखें ताकि समय पर बिल मिल सकें और भुगतान हो सके। भुगतान के पश्चात् बिलों को फाइल में लगाएं। यह काम छुट्टी वाले दिन या फ्री समय में करें।
– बच्चों के स्कूल की फीस की रसीद भी संभाल कर रखें और जहां तक संभव हो, चैक द्वारा ही फीस का भुगतान करें ताकि सुरक्षा बनी रह सके।
– सुनीता गाबा

Share it
Share it
Share it
Top