कुछ एेसे फल…जो बचाते हैं बीमारियों से

कुछ एेसे फल…जो बचाते हैं बीमारियों से

 वैसे तो सभी फल सेहत के लिए अच्छे होते हैं पर कुछ फलों में एक ही तरह के विटामिन की प्रचुरता होने के कारण वे हमारी सेहत का विशेष ध्यान रखते हैं।
बीमारियों से दूरी बनाता है नींबू सारा साल आसानी से पाये जाने वाले नींबू में बीमारियों से लडऩे की ताकत होती है। नींबू पेट से जुड़े रोगों में भी लाभप्रद है। नींबू विटामिन सी से भरपूर होता है जो शरीर को कई तरह से लाभ पहुंचाता है। बच्चों की हड्डियों और दांतों के विकास में भी नींबू सहायक है।
कब्जग्रस्त लोगों को प्रतिदिन एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू का रस निचोड़कर पीना चाहिए। डायरिया, हैजा, पीलिया जैसे रोगों में भी नींबू बहुत सहायक है। रोगों को दूर करने के साथ-साथ नींबू त्वचा रक्षा के लिए भी लाभप्रद है। कुहनियां, घुटने और गर्दन की त्वचा जब काली हो जाए तो उसे नींबू से रगड़ कर साफ किया जा सकता है। बालों में रूसी होने पर नारियल तेल में नींबू का रस मिलाकर लगाने से रूसी दूर होती है।
गुणों से भरपूर आंवला:- सबसे अधिक विटामिन सी आंवले में पाया जाता है। इसका सेवन कच्चा, उबालकर, सब्जी बना कर, मुरब्बे और जैम के रूप में किया जा सकता है। आंखों की समस्या के लिए रात्रि में सूखे आंवले के चूर्ण को भिगो कर रखने से प्रात: उसी पानी को छानकर आंखे धोने से आंखें उज्जवल होती हैं और रोशनी भी बढ़ती है।
प्रात:काल नियमित आंवले के ताजे रस में शहद मिलाकर खाने से भी रोशनी बढ़ती है। नियमित आंवले के सेवन से हमारी रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती है। आधा चम्मच आंवले का चूर्ण शहद के साथ खाने से चेहरे पर ग्लो आता है और कब्ज की शिकायत भी नहीं रहती।
बच्चों में न होने दें अनीमिया..ये हैं लक्षण

विटामिन से भरभूर टमाटर:- टमाटर में विटामिन ए, बी और सी भरपूर होता है। टमाटर हमारे पेट को साफ रखने में सहायक होता है और दांतों को मजबूत बनाता है। नियमित टमाटर खाने वालों का डाइजेशन सिस्टम ठीक रहता है। जो व्यक्ति प्रतिदिन 2०० ग्राम टमाटर का सेवन करता है उसमें विटामिन सी की कमी नहीं होती। किडनी स्टोन वाले लोगों को टमाटर से दूर रहना चाहिए।
सेब खाएं, रोग दूर भगाएं:- प्रतिदिन एक सेब खाने से आप निरोग रह सकते हैं क्योंकि इसमें फाइटो न्यूट्रिएंट्स की मात्रा भरपूर होती है। सेब हमारे दिमाग की कोशिकाओं की मरम्मत करता है। ताजा सेब खाना अधिक लाभप्रद होता है। सेब में आयरन की मात्रा भी काफी होती है।
– सुनीता गाबा

Share it
Top