कर्मचारियों को दीवाली के तोहफे में मिठाई नहीं नगद पसंद

कर्मचारियों को दीवाली के तोहफे में मिठाई नहीं नगद पसंद

rupeeनई दिल्ली। अलग-अलग क्षेत्रों में काम करने वाले अधिकतर कर्मचारी इस बार दिवाली के तोहफे के रूप में मिठाई नहीं बल्कि नगद और गिफ्ट कूपन चाहते हैं लेकिन उनकी कंपनियों के एचआर प्रमुख नगद में दिये गये तोहफे को पैसे की बर्बादी मानते हैं। उद्योग संगठन एसोचैम के ताजा ऑनलाइन सर्वेक्षण में यह बात सामने आयी है कि कर्मचारी पारंपरिक तोहफे मिठाई को लेना पसंद नहीं करते हैं। कर्मचारियों को तोहफे में गिफ्ट कूपन, वाउचर और प्रीपेड कार्ड पसंद हैं। एसोचैम ने दिवाली के बोनस की जानकारी के लिए एक अक्टूबर से 15 अक्टूबर के बीच अहमदाबाद , बेंगलुरु, चेन्नई, दिल्ली, एनसीआर, हैदराबाद, इंदौर, जयपुर, कोलकाता, लखनऊ और मुम्बई जैसे दस शहरों में 1000 पूर्णकालिक कर्मचारियों तथा लगभग 500 एचआर पेशेवरों की राय ली। सर्वेक्षण के मुताबिक 45 प्रतिशत कर्मचारी इस बार दिवाली के तोहफे के रूप में नगद या गिफ्ट कूपन या वाउचर चाहते हैं। 35 प्रतिशत कर्मचारी उपकरण, बिजली के सामान ,होम अप्लायंस, बर्तन या खुद के इस्तेमाल में काम आने वाली चीजें तथा 15 प्रतिशत कर्मचारी मिठाई या कुकीज चाहते हैं जबकि शेष कर्मचारियों को कई अन्य तोहफे पसंद हैं। भले ही हर कर्मचारी दीवाली गिफ्ट चाहता है लेकिन आधी से अधिक कंपनियों के एचआर उन तोहफों को ही तरजीह देना पसंद करते हैँ, जिसका अनुकूल प्रभाव कर्मचारियों की कार्यक्षमता पर पड़े। एचआर का मानना है कि तोहफे में दी जाने वाली नगदी सबसे कम प्रभावी है और इससे कर्मचारी संतुष्ट नहीं होते। उनका कहना है कि कर्मचारियों पर सबसे अधिक और दूरगामी प्रभाव गैर-वित्तीय तोहफेे का पड़ता है। अधिकतर एचआर ने यह खुलासा किया है कि उनकी कंपनियां लगातार अच्छा प्रदर्शन करने वाले कर्मचारियों को कुछ बेहतर तोहफा देना चाहती हैं और उन्होंने ऐसे कर्मचारियों को चिह्नित भी कर लिया है। अधिकतर ने बताया कि उनकी कंपनी योग्यता को ज्यादा तरजीह देती है और वह सभी को दिवाली के तोहफे न देकर सिर्फ उन्हें ही देगी, जो कर्मचारी योग्य हैं।एसोचैम ने बताया कि निजी क्षेत्र की अधिकतर कंपनियां अब निर्धारित दिवाली बोनस नहीं देती हैं और उन्होंने गत कुछ साल से अच्छा प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों को उनकी निजी योग्यता के आधार पर दिवाली गिफ्ट देना शुरू कर दिया है। श्री रावत ने बताया कि कंपनियां दिवाली गिफ्ट देने में कंजूसी बरतती हैं लेकिन सबसे अधिक धूमधाम से मनाया जाने वाला पर्व दिवाली कर्मचारियों के प्रति कंपनी की कृतज्ञता जताने का एक अवसर बन गया है। कंपनियां गिफ्ट देकर अपने कर्मचारियों के काम की सराहना करती हैं, संबंध बनाती हैं और मजबूत बनाती हैं। एचआर प्रमुखों का कहना है कि उन्होंने दिवाली गिफ्ट के लिए निश्चित राशि तय की है और उनका बजट पिछले साल जैसा ही है। उन्होंने बताया कि उनकी योजना कर्मचारियों को दिवाली गिफ्ट में चॉकलेट, विदेशी शराब, असली चमड़े के बैग तथा जिम और क्लब की सदस्यता देने की है। इस बार कर्मचारियों को पहले की तरह क्रॉकरी, मिठाई, मेवे, बेडशीट, सोने के सिक्के, सजावटी सामान, लग्जरी घड़ी, डिजाइनर कपड़े, कीमती कलम, डायरी, हॉलीडे पैकेज, मूवी टिकट, डिनर कूपन, स्पा वाउचर और गिफ्ट हैंपर भी मिल सकता है।

Share it
Top