ऐसे बनाएं दांतों को स्वस्थ व निरोगी

ऐसे बनाएं दांतों को स्वस्थ व निरोगी

touthयह तो हम सभी जानते ही हैं कि शरीर में आहार के प्रविष्ट होने का द्वार हमारा मुंह है, इसलिए इसका स्वच्छ व निरोग रहना परम आवश्यक है वरना मुंह रूग्ण और मंदा रहेगा तो अंदर जाने वाला पदार्थ भी दूषित होकर पहुंचेगा और विकार उत्पन्न करेगा। इसलिए मुंह को स्वच्छ रखने के लिए हमें दांत, मसूड़ों और जीभ की स्वच्छ, स्वस्थ और निरोग रखना होगा। निम्नलिखित उपाय करके दांतों की रक्षा की जा सकती है:-
-दिन में चार बार-सुबह उठने के बाद, सुबह और शाम भोजन के बाद और रात को सोने से पहले दांतों को जरूर साफ करें।
– भोजन या कोई भी पदार्थ खाने के बाद गिन कर 11 बार जोरदार कुल्ले करें।
– अधिक गरम या अधिक ठंडे पदार्थों का सेवन न करें, जैसे गरम-गरम चाय पीना या बहुत गरम भोजन करना। फ्रिज का पानी या अन्य ठंडे पेय या आइसक्र ीम खाना।
– कोई गर्म पेय या पदार्थ खाकर तुरंत ठंडी चीज या ठंडा पेय का सेवन न करें।
– कोई पदार्थ खाते-खाते सो जाना ठीक नहीं, मुंह साफ करके सोना चाहिए।
– मिठाई, चॉकलेट, टॉफी या शीतल पेय का अधिक सेवन नहीं करें, ऐसी कोई भी चीज़ खाने या पीने के तुंरत बाद पानी से कुल्ले कर लेना चाहिए।
– मुंह से दुर्गंध आती मालूम हो या मुंह का स्वाद खराब लगे तो तुरंत दंत मंजन और कुल्ले कर लेना चाहिए।
– मंजन या पेस्ट करने के बाद और भोजन करने के बाद कुल्ले करते समय मसूड़ों को अंगुली से काफी देर तक घिस कर मसाज करनी चाहिए। इससे मसूड़े मज़बूत और दांत स्वस्थ व चमकदार होते हैं।
– कब्ज नहीं होने देना चाहिए। देर तक भूखे रहना, देर से भोजन करना और दुर्गंधयुक्त पदार्थों का सेवन करना बंद कर देना चाहिए।
– मसूड़ों के रोगी को प्याज, खटाई, लाल मिर्च और ज्यादा मीठे पदार्थों का सेवन बंद रखना चाहिए। कठोर पदार्थ चबाना, गन्ना चूसना, सुपारी चबाना, दातून करना और ठंडे या गरम पदार्थ का सेवन बंद रखना चाहिए।
– आहार में कैल्शियम और विटामिन सी, डी वाले पदार्थों का सेवन अवश्य करें जैसे आंवला, नींबू, गाजर, मूली, बादाम, मूंगफली, पालक की भाजी, मक्खन, घी, गुड़, शहद, दूध, दही, छाछ, संतरा, कच्चा नारियल, केला और मीठा आम आदि।
– खाया हुआ आहार ठीक से और जल्दी पच सके, इसके लिए यह जरूरी है कि आहार खूब-चबा-चबा कर ही खाया जाए। ऐसा तभी हो सकेगा जब दांत मज़बूत और निरोग हों। दांतों का काम आंतों से लेना बुद्धिमानी नहीं।
इसलिए दांतों की सुरक्षा और देखभाल बहुत जरूरी है ताकि शरीर स्वस्थ और बलवान रह सके।
उमेश कुमार साहू

Share it
Top