ऐसा गांव जहां 20 साल से नही हुई लड़कियों की शादी

ऐसा गांव जहां 20 साल से नही हुई लड़कियों की शादी

 jaldi-shadi-ke-upay-in-hindiपटना। देश एवं प्रातों में सत्ता पर बैठे नेता अपने भाषणों में विकास एवं सुशासन का गुणगान करते हुए थकते नही हैं। जहां एक तरफ कई शहरों को स्मार्ट सिटी बनाया जा रहा,देश में जापान की तर्ज पर हाई स्पीड ट्रेनो को दौ़ड़ाने की बात की जा रही है। लेकिन बिहार के भागलपुर जिले में एक ऐसा गांव भी है जहां पांच सौ लड़कियों को शादी के लिए दूल्हे का इंतजार है। इस गांव में कोई लड़का शादी करना नहीं चाहता है क्योंकि यहां आना जाना बहुत मुश्किल है। दूल्हे इस गांव की दुल्हन लाने की हिम्मत नही जुटा पाते हैं। वजह है चांदन नाम की नदी। इस नदी पर पुल न होने की वजह से आसपास के गांव के लोग इस गांव में रिश्ता नहीं करना चाहते हैं। यही वजह है कि पिछले 20 वर्षों से इस गांव में शहनाई नहीं बजी है। ये कहानी है सन्हौली गांव की जो भागलपुर शहर से महज 12 किलोमीटर की दूरी पर है।इस गांव की आबादी लगभग छः हजार है। यह एक ऐसा गांव है जिस गांव में पिछले दो दशक से शहनाई नहीं बजी है। पिछले दो दशक से इस गांव में कोई बारात नहीं आई है। इसलिए नहीं कि इस गांव में कोई कुंवारी कन्या नहीं बल्कि बारात इसलिए नहीं आयी कि सन्हौली गांव को शहर से जोड़ने वाली कोई सड़क ही नहीं है। सन्हौली गांव के लोग खुद चांदन नदी पर एक कच्चा पुल बनाया है जिसके सहारे वो शहर आते-जाते हैं और अपने रोजमर्रा का काम पूरा कर घर वापस लौटते हैं। गांव वाले लोगों को भी इस कच्चे पुल को पार कर शहर जाना या फिर वापस आना किसी जंग को जीतने से कम नहीं लगता।दूसरे गांव के लोग इस बारे में जानते हैं इसलिए वो अपने लड़के की शादी इस गांव में नहीं करना चाहते। ऐसा नहीं की है कि यहां कोई मुखिया नहीं है, सरपंच नहीं या फिर यह गांव किसी विधानसभा या लोकसभा क्षेत्र से जुड़ा नहीं है। बाqल्क सच्चाई ये है कि राजनेताओं ने कभी इस गांव को विकास से जोड़ने की जरुरत महसूस ही नहीं की है। पिछले साल दो बच्चों की मौत इस नदी को पार करते समय डूब जाने से हो गई थी।

Share it
Top