एक बार एक ब्राहमण मर गया…

एक बार एक ब्राहमण मर गया…

एक बार एक ब्राहमण मर गया,
वो स्वर्ग के वेटिंग
लाइन में खडा थाउनके आगे एक काला
चश्मा जींस, लेदर जैकेट
पहन कर एक जाट
खडा थाधर्म राज जाट से : कौन हो तुम?
जाट : मैं हरियाणा रोडवेज का ड्राइवर हूँधर्म राज : ये लो सोने की शाल और अंदर जाकर गोल्डन
रूम ले लो !धर्मराज ब्राहमण से : कौन हो तुम?
ब्राहमण : मैं ब्राहमण हूँ, और 40 सालो से लोगों को भगवान
के बारे में बताया करता था !धर्मराज : ये लो सूती वस्त्र
और अंदर आ
ब्राहमण : भगवान, ये गलत है ये तेज गति से गाड़ी चलाने
वाले को सोने की शाल और
जिसने पूरा जीवन भगवान
का ज्ञान दिया उसे सूती वस्त्र?धर्मराज : परिणाम मेरे बच्चे परिणाम…
जब तुम ज्ञान देते थे सभी
भक्त सोते रहते थेलेकिन जब यह बस तेज
गति से चलाता था तब लोग
सच्चे मन से भगवान को याद करते थेहमेशा Performance देखी जाती है Position नही. 

Share it
Share it
Share it
Top