उप्र में दूसरे चरण का चुनाव 15 फरवरी को..यहां मुस्लिम मतदाताओं की भूमिका महत्वपूर्ण!

उप्र में दूसरे चरण का चुनाव 15 फरवरी को..यहां मुस्लिम मतदाताओं की भूमिका महत्वपूर्ण!

लखनऊ । राज्य विधानसभा के दूसरे चरण में संवेदनशील पश्चिमी उत्तर प्रदेश 67 सीटों पर आगामी 15 फरवरी को होने वाले चुनाव में मुस्लित मतदाता प्रत्याशियों के हार-जीत में निर्णायक साबित हो सकते है । समाजवादी पार्टी -कांग्रेस गठबंधन, बहुजन समाज पार्टी(बसपा) और कुछ क्षेत्रों में राष्ट्रीय लोकदल अल्पसंख्यक के मतदाताअों का धुवीकरण अपनी पार्टी की ओर करने में जुटे है। वहीं दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) उम्मीद कर रही है कि मुस्लित मतदाओं के बंटने का फायदा उसे मिलगा। इस चरण के चुनाव में कुछ सीटों पर मुस्लिस मतदाता 50 प्रतिशत के लगभग है। ऐसी सीटों पर मुस्लिम मतदाताओं का रूझान किसी प्रत्याशी के भाग्य का फैसला करेगा। दूसरे चरण में 11 जिलों की राज्य विधानसभा की 67 सीटों पर मतदान आगामी 15 फरवरी को होगा।
सपा-कांग्रेस का साझा कार्यक्रम जनता की आखों में की धूल झोंकने की कोशिश : मायावती
अमरोहा, मुरादाबाद, रामपुर, बरेली, बिजनौर तथा सहारनपुर की अधिकतर सीटों पर मुस्लिम मतदाताओं की सख्या 30 प्रतिशत से अधिक है। इस चरण में सम्भल, बदायूं, शाहजहांपुर, पीलीभीत और लखीमपुर -खीरी जिलों में भी मतदान होगा। इस जिलों में अल्पसंख्यक मतदाताअों का रूप अपनी पार्टी की ओर करने के लिये गैर-भाजपा दलों ने अलग से रणनीति बनायी है। दूसरे चरण के में बसपा ने जहां 26 मुस्लिम प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे है वही सपा-कांग्रेस गठबंधन ने 25 मुस्लिम प्रत्याशियों को टिकट दिया है। रालोद ने भी 13 मुस्लिम प्रत्याशी मैदान में उतारे है।
यूपी चुनाव 2017-प्रियंका गांधी नहीं करेंगी अमेठी और रायबरेली में चुनाव प्रचार..!

15 सीटे ऐसी है जहां सपा-कांग्रेस गठबंधन, बसपा और रालोद ने मुस्लिम प्रत्याशियों को टिकट दिया है । 
अमरोहा में तीनों पार्टियों के मुस्लिस प्रत्याशी को चुनाव में उतारा है जबकि देवबंद में बसपा प्रत्याशी माजिद अली सपा के माविया अली को टक्कर दे रहे है । मुरादाबाद जिले के कांठ सीट से सपा से अन्नीसुरहमान को टिकट दिया है जबकि रालोद अशफाक अली खां तथा मोहम्मद नासिर कांग्रेस के टिकट से अपना भाग्य आजमा रहे है। ऐसी ही स्थिति मुरादाबाद के कुंदरकी और मुरादाबाद ग्रामीण क्षेत्रों में है। सपा के कद्दावर नेता और मत्री आजम खां को बसपा के तरवीर और रालोद के आसिम खां रामपुर सीट से टक्कर दे रहे है। रामपुर जिले के स्वारटांडा सीट आजम खां के बेटे अबदुल्ला आजम का बसपा के नवाब काजिम खां से कडा मुकाबला है । दूसरे चरण में भाजपा मुस्लिम वोटों के बटवारे की आस लगाये बैठी है। मुस्लिम वोटों के बटवारे से उसे लाभ मिलने की उम्मीद की जा रही है । वर्ष 2012 के चुनाव में भाजपा ने 67 सीटों में से दस सीटों पर जीत दर्ज की थी जबकि सपा ने 34 सीटों पर, बसपा ने 18 सीटों पर तथा कांग्रेस मात्र तीन सीट जीतने से सफल रही । वर्ष 2014 के लाेकसभा चुनाव में भाजपा ने सभी दलों को सफाया कर दिया था। सभी विधानसभा सीटों पर भाजपा को बढत मिली थी ।

Share it
Share it
Share it
Top