उत्तम स्वास्थ्य के लिए अनिवार्य है हास्य चिकित्सा..क्योंकि हँसी ही वास्तविक प्रसन्नता और आनंद प्रदान कर सकती है.!

उत्तम स्वास्थ्य के लिए अनिवार्य है हास्य चिकित्सा..क्योंकि हँसी ही वास्तविक प्रसन्नता और आनंद प्रदान कर सकती है.!

व्यक्ति का मूल स्वभाव है आनंद और प्रसन्नता। प्रसन्नता की अवस्था में ही व्यक्ति हँसता और मुस्कराता है। यदि जीवन में प्रसन्नता का अभाव है तो हँसी के द्वारा ही व्यक्ति इस अभाव को पूरा करने का प्रयास करता है क्योंकि हँसी ही वास्तविक प्रसन्नता और आनंद प्रदान कर सकती है चाहे वह बाहरी साधनों द्वारा ही क्यों न उत्पन्न की जाए। वस्तुत: स्वाभाविक हास्य-विनोद आज जीवन से गायब होता जा रहा है और इसका कारण है तनावपूर्ण जीवनशैली। विद्यार्थी अपनी पढ़ाई को लेकर तनावग्रस्त हैं तो युवा रोजग़ार को लेकर। नौकरीपेशा काम के बोझ से तनाव व दबाव में हैं तो बेरोजग़ार काम के अभाव में। युवा अपनी समस्याओं को लेकर दुखी और तनावग्रस्त हैं तो बुज़ुर्गों की अपनी समस्याएँ हैं जिनके कारण वे तनावग्रस्त हो जाते हैं। एकमात्र हास्य ही ऐसी औषधि है जो हर स्तर पर हर व्यक्ति को तनावमुक्त कर स्वस्थ कर सकती है। हास्य की इसी उपयोगिता के कारण इस पर निरंतर अनुसंधान हो रहे हैं और यह एक विज्ञान अथवा चिकित्सा-पद्धति के रूप में विकसित हो रहा है जिसे अंग्रेजी में गेलोटोथेरेपी तथा हिंदी में हास्योपचार अथवा हास्य चिकित्सा कहा जाता है। हास्य का सबसे बड़ा लाभ यह है कि हास्य द्वारा हमारे शरीर की जीव-रासायनिक संरचना में परिवर्तन आता है। ध्यानावस्था की तरह ही हँसने की अवस्था में भी हमारे शरीर में तनाव उत्पन्न करने वाले हार्मोंस के स्तर में कमी आती है जिससे शरीर तनावमुक्त होकर स्वस्थ बनता है।
ग्रीष्म ऋतु में सौंदर्य की देखभाल कैसे करें…?
साथ ही शरीर में उन लाभदायक हार्मोंस की मात्र में भी वृद्धि होती है जो शरीर के लिए स्वाभाविक दर्द निवारक और रोग अवरोधक के रूप में कार्य करते हैं। कहने का तात्पर्य यह है कि हास्य द्वारा व्यक्ति न केवल तनावमुक्त होकर स्वस्थ हो जाता है अपितु हास्य से उसकी स्वाभाविक रोगावरोधक क्षमता में भी वृद्धि होती है जिससे वह अनेक बीमारियों से बचा रह सकता है। हँसने से व्यक्ति प्रसन्न होता है और प्रसन्नता की अवस्था में शरीर में ऐसी कोशिकाओं का निर्माण भी होता है जो कैंसर जैसे भयानक रोग पैदा करने वाली कोशिकाओं को विनष्ट करने में भी सक्षम होती हैं और यह बात वैज्ञानिक अनुसंधानों द्वारा स्पष्ट हो चुकी है।
पानी पिएं और रखें ब्लड प्रेशर पर कंट्रोल…!
इस प्रकार हास्य भयानक घातक रोगों से बचे रहने की अचूक औषधि है और ऐसी औषधि जिसका कोई दाम भी नहीं देना पड़ता। आपके तनाव का उपचार कर आपको स्वस्थ बनाए रखने के लिए अनिवार्य हैं हास्योपचार अथवा हास्य चिकित्सा की कुछ बूँदें।-सीताराम गुप्ता

Share it
Share it
Share it
Top