इस मंदिर में शादी के लिए जरूरी है आधार कार्ड

इस मंदिर में शादी के लिए जरूरी है आधार कार्ड

aadhar
अल्मोड़ा। शादी के लिए आधार कार्ड है ना हैरत की बात पर यह सही है। उत्तराखंड में अल्मोड़ा के पास चितई गोलू देवता मंदिर में शादी करने के लिए अब आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया गया है। चितई गोलू देवता मंदिर में शादी करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। चितई गोलू देवता मंदिर में साल में लगभग 400 से ज्यादा शादियां होती हैं। यहां शादी करने के लिए देश विदेश से लोग आते हैं। शादी के सीजन में यहां रोज 4-5 शादियां होती हैं। मंदिर के पुजारी का कहना है कि ज्यादा शादियां होने की वजह से वर वधू के नाम, पता और उम्र की जांच संभव नहीं हो पा रही थी। कई लोग राज्य के बाहर से आते हैं, उस स्थिति में हम यह जांच नहीं कर पाते थे कि शादी के लिए वर और वधू कानूनी तौर पर बालिग हैं कि नहीं।’
मुजफ्फरनगर में हर्षोल्लास के साथ मना असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक विजयदशमी का पर्व….

पुजारी ने बताया कि जांच करने पर पता चला कि मंदिर में हुई कुछ ऐसी शादियां भी हुर्इं जिनमें वर-वधू कानूनी तौर पर बालिग नहीं थे और वे शादी करने के लिए घर से भागे हुए थे। यह भी पता चला कि यहां कई नेपाली लड़कियों को शादी के लिए लाया गया था और मानव तस्करी के भी मामले सामने आए। इस तरह की गैरकानूनी शादियों को रोकने के लिए मंदिर प्रशासन ने फैसला लिया है कि आधार कार्ड देखकर ही अब यहां शादी कराई जाएगी।मंदिर प्रशासन का कहना है कि आधार कार्ड में नाम, पता, उम्र सहित अन्य अहम जानकारियां होती हैं इसलिए शादी करने वालों से कहा गया है कि वो आधार कार्ड लेकर आएं। चितई गोलू देवता मंदिर पिथौरागढ़ हाईवे पर है। यह अल्मोड़ा से 8 किलोमीटर दूर है। गोलू देवता को न्याय का देवता माना जाता है।दैनिक रॉयल unnamed
बुलेटिन की मोबाइलएप को डाउनलोड कीजिये….गूगल के प्लेस्टोर में जाकर
royal bulletin
टाइप करे और एप डाउनलोड करे..आप हमारी हिंदी न्यूज़ वेबसाइट
www.royalbulletin.com
और अंग्रेजी news वेबसाइटwww.royalbulletin.in को भी लाइक करे..कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव भी दें…info @royalbulletin.com परuntitled-1-3

Share it
Share it
Share it
Top