इन उपायों से गर्मी में रहें कूल-कूल

इन उपायों से गर्मी में रहें कूल-कूल

कड़ाके की गर्मी में ठंडक का अहसास बड़ा अजीब सा लगता है पर यह सच है कि हम अपने जीवन में कुछ बदलाव लाएं तो हम मौसम का मजा कुछ अधिक ले सकते हैं। मौसम में फ्रस्ट्रेट रहकर हम मौसम के आनंद से वंचित रहते हैं। प्रस्तुत हैं एक्सपटर्स द्वारा बताई कुछ टिप्स और ट्रिक्स जिन्हें अपना कर आप बहादुरी से गर्मी का मुकाबला कर सकते हैं।
सही कपड़ों का चयन
– स्पष्टत: गर्मियों में सूती वस्त्र ही अच्छे लगते हैं क्योंकि वे आसानी से पसीना सोखते हैं। कॉटन से बने अन्य मेटीरियल जैसे लिनन, मलमल, वॉयल और जूट फेब्रिक आदि भी पहन सकते हैं। ये भी शरीर को गर्मियों में आराम पहुंचाते
हैं।
– शाम में आप कुछ कॉटन मिक्स फेब्रिक वाले कपड़े पहन सकते हैं।
सही आहार
– खूब पानी पिएं क्योंकि गर्मियों में पसीना अधिक आता है।
– पसीने के रूप में हमारे शरीर से कई साल्ट और खनिज भी निकल जाते हैं। उसकी कमी को पूरा करने के लिए दिन में एक या दो बार इलेक्ट्राल पाउडर को शिकंजी, शर्बत, नारियल पानी में मिलाकर पिएं।
– गर्मियों में इन सब्जियों का सेवन अधिक करें जैसे घीया, तोरी, पेठा, कमलककड़ी आदि। इनसे शरीर में जलीय अंश बढ़ता है।
– गर्मियों में अधिक मसाले का सेवन न करें जैसे लौंग, जायफल और दालचीनी। इनके सेवन से शरीर में गर्मी बढ़ती है।
– नाश्ते में परांठे, पूरी और डोसे के स्थान पर पोहा, दलिया, फल या इडली लें।
– काफी और चाय के स्थान पर छाछ और कोल्ड काफी का सेवन करें। गर्मियों में दिन और रात में भोजन के साथ पुदीने, प्याज और कच्चे आम की चटनी अवश्य लें। दिन में या रात्रि में खिचड़ी का सेवन भी कर सकते हैं, उसमें खूब सारी सब्जियों डालकर।
व्यायामग्रीष्म ऋतु में सौंदर्य की देखभाल कैसे करें…?

– व्यायाम करते समय गर्मियों में डार्क कलर के ट्रैक सूट न पहनें। हल्के रंगों की टीशर्ट, निक्कर और कैप्री पहनें।
– यदि आप जिम जाते हैं तो नायलोन वाली जुराबें न पहनें। इससे पैरों में पसीना आएगा। जुराब पहनने से पहले पैरों पर प्रिकली हीट पाउडर छिड़क लें। पसीने वाले जूतों को सुखा कर पहनें।
– एक्सपर्टस के अनुसार व्यायाम करते समय पानी का थोड़ा-थोड़ा सेवन करते रहें। शरीर को हर 20 मिनट के व्यायाम के बाद 100 ग्राम पानी की आवश्यकता होती है। व्यायाम प्रारंभ करने से 10-15 मिनट पहले एक गिलास पानी पिएं।
– व्यायाम व सैर करने का सबसे उत्तम समय प्रात: 8 बजे से पहले और सांय 6 बजे के बाद है। कभी भी मिड डे में व्यायाम न करें। तब शरीर का तापमान अधिक होता है और सूर्य की अल्ट्रावॉयलेट रेज भी पूरी तरह से अपना प्रभाव दिखाती हैं।
– यदि आप बाहर व्यायाम के लिए जाते हैं तो व्यायाम की रफ्तार अधिक तेज न रखें। थोड़े व्यायाम के बाद थोड़ा सा विश्राम कर फिर व्यायाम जारी रखें।
पानी पिएं और रखें ब्लड प्रेशर पर कंट्रोल…!

गर्मी के रोगों का रखें ध्यान
सिरदर्द और माइग्रेन गर्मियों में बढ़ जाता है। बाहरी गर्मी के कारण ऐसे में माइग्रेन रोगी और जिन्हें जल्दी सिररर्द होता हो, उन्हें बाहर कम से कम निकलना चाहिए। यदि जाना भी पड़े तो सिर पर टोपी और छाता लेकर निकलें। ऐसे रोगियों को खमीर उठा खाना और खट्टे रस वाले फलों का सेवन नहीं करना चाहिए।
– जिन लोगों को पसीना कम आता है, उन्हें गर्मी अधिक लगती है, थकान रहती है, हल्का हल्का सिर दर्द रहता है। ऐसे में कभी कभी चक्कर आकर बेहोश हो सकते हैं। उन्हें अपना विशेष ध्यान रखना चाहिए।
– स्किन एलर्जी भी गर्मियों की आम बीमारी है। जहां पसीना आता है और आसानी से सूखता नहीं, या पसीना अधिक आता हो और पानी कम पीते हों, तब भी पानी की कमी से त्वचा खुश्क व खिंची खिंची सी हो जाती है और खुजली करने से जख्म बन जाते हैं। इसलिए खूब पानी पिएं। जहां पसीना मुश्किल से सूखता है, रूमाल से पोंछते रहें।
– गर्मियों में शरीर में पानी की कमी से किडनी प्रभावित हो सकती है और बेहोशी भी आ सकती है। साफ पानी पीने पर विशेष ध्यान देना चाहिए।
– अधिक गर्मी के कारण नाक से नकसीर कभी-कभी आ जाती है। ऐसे में नाक के बाहर बर्फ से टकोर करें और विश्राम करें। गर्मियों में धूम्रपान और शराब का सेवन कम करें। त्वचा पर सन बर्न भी हो सकता है। बाहर निकलते समय खुली त्वचा पर सन स्क्रीन लोशन लगा कर निकलें।
– नीतू गुप्ता

Share it
Top