अमेरिका में ब्याज दर बढऩे शेयर बाजार धड़ाम

अमेरिका में ब्याज दर बढऩे शेयर बाजार धड़ाम

मुंबई। अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत की बढ़ोतरी से यूरोपीय तथा अन्य एशियाई शेयर बाजारों के साथ घरेलू शेयर बाजार भी आज धड़ाम हो गये।

बीएसई का सेंसेक्स 0.26 प्रतिशत यानी 80.18 अंक लुढ़ककर 26 मई के बाद के निचले स्तर 31,075.73 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 0.42 प्रतिशत यानी 40.10 अंक उतरकर 25 मई के बाद के निचले स्तर 9,578.05 अंक पर आ गया।
बीएसई के समूहों में रियलिटी में सबसे ज्यादा दो प्रतिशत से अधिक की तेजी रही जबकि तेल एवं गैस और पीएसयू समूहों में एक प्रतिशत से ज्यादा की गिरावट देखी गयी। सेंसेक्स को जहाँ रिलायंस इंडस्ट्रीज और विप्रो के साथ दवा क्षेत्र की कंपनियों ने सँभाला, वहीं टीसीएस, एलएंडटी, ओनजीसी और एचडीएफसी जैसी दिग्गज कंपनियों ने इस पर दबाव बनाया।
सेंसेक्स की शुरुआत 66.98 अंक की बढ़त के साथ 31,222.89 अंक पर हुई और वैश्विक दबाव के कारण खुलते ही यह लाल निशान में चला गया। शुरुआती कारोबार में इसने सँभलने की कोशिश की और कुछ देर के लिए हरे निशान में भी रहा, लेकिन पहले घंटे का कारोबार समाप्त होते-होते इस पर दबाव बढ़ गया जिससे यह पूरे दिन नहीं उबर सका।
कारोबार के दौरान 31,229.44 अंक के दिवस के उच्चतम और 31,026.48 अंक के निचले स्तर को छूने के बाद कारोबार की समाप्ति पर सेंसेक्स गत दिवस की तुलना में 80.18 अंक लुढ़ककर 31,075.73 अंक पर बंद हुआ।
सूचकांक में शामिल 30 में से 22 कंपनियाँ गिरावट में रहीं। टीसीएस के शेयर लगभग ढाई प्रतिशत लुढ़के। एलएंटी में करीब डेढ़ फीसदी की गिरावट रही। ओएनजीसी, महिंद्रा एंड महिंद्रा, कोल इंडिया और गेल में भी एक प्रतिशत से अधिक की गिरावट रही।
निफ्टी पर सेंसेक्स की तुलना में ज्यादा दबाव रहा। यह 0.25 प्रतिशत की गिरावट में 9,617.90 अंक पर खुला। शुरुआती कारोबार में 9,621.40 अंक के दिवस के उच्चतम और अंतिम घंटे में 9,560.80 अंक के निचले स्तर को छूता हुआ यह गत दिवस के मुकाबले 40.10 अंक गिरकर 9,578.05 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 51 कंपनियों में से 38 के शेयर गिरावट में, 12 बढ़त में और एक अपरिवर्तित रहे।
बड़ी कंपनियों के विपरीत छोटी कंपनियों में निवेशकों ने लिवाली की जबकि मझौली कंपनियों में बिकवाली कम रही। बीएसई का स्मॉलकैप 0.37 प्रतिशत की तेजी के साथ 15,645.89 अंक पर और मिडकैप 0.12 प्रतिशत फिसलकर 14,781.77 अंक पर बंद हुआ।
बीएसई में कुल 2,818 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ। इनमें 1,374 के शेयर हरे निशान में और 1,272 के लाल निशान में रहे जबकि 172 में कोई बदलाव नहीं हुआ।
प्रमुख एशियाई शेयर बाजारों में अधिकतर लाल निशान रहे। जापान का निक्की 0.26 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.46 प्रतिशत और हांगकांग का हैंगसेंग 1.20 प्रतिशत टूटकर बंद हुये। वहीं, चीन के शंघाई कंपोजिट में 0.06 फीसदी की तेजी रही। यूरोपीय बाजार भी लाल निशान में खुले। शुरुआती कारोबार में ब्रिटेन का एफटीएसई 0.76 प्रतिशत और जर्मनी का डैक्स 0.75 प्रतिशत लुढ़क गया।
बीएसई के समूहों में सबसे ज्यादा 1.15 प्रतिशत की गिरावट तेल एवं गैस में देखी गयी। पीएसयू का सूचकांक 1.02 प्रतिशत टूटा। इनके अलावा आईटी और टेक दोनों में 0.92, पूँजीगत वस्तुओं में 0.68, दूरसंचार में 0.64, ऑटो में 0.54, बैंकिग में 0.41, धातु में 0.38, इंडस्ट्रियल्स में 0.31, फाइनेंस और टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद दोनों में 0.29 तथा सीडीजीएंडएस और यूटिलिटीज दोनों में 0.15 प्रतिशत की गिरावट रही।
सबसे ज्यादा 2.16 फीसदी की तेजी रियलिटी समूह में रही। इसके अलावा बेसिक मटिरियल्स, एनर्जी, एफएमसीजी, स्वास्थ्य और पावर समूहों में भी तेजी रही।
सेंसेक्स की कंपनियों में टीसीएस के शेयर 2.42 प्रतिशत, एलएंडटी के 1.46, ओएनजीसी के 1.18, महिंंद्रा एंड महिंद्रा केृ 1.16, कोल इंडिया के 1.13, गेल के 1.10, हिंदुस्तान यूनिलिवर के 0.82, एचडीएफसी के 0.79, बजाज ऑटो के 0.71, आईसीआईसीआई बैंक और टाटा मोटर्स दोनों के 0.70, इंफोसिस के 0.66, एशियन पेंट््स के 0.64, एचडीएफसी बैंक के 0.53, मारुति सुजुकी के 0.50, एनटीपीसी के 0.28, हीरो मोटोकॉर्प के 0.23, भारतीय स्टेट बैंक के 0.11, पावर ग्रिड के 0.05, टाटा स्टील के 0.04 तथा एक्सिस बैंक और भारती एयरटेल दोनों के 0.03 प्रतिशत की गिरावट में रहे।
मुनाफा कमाने वालों में रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर 2.11 प्रतिशत, विप्रो के 1.86, सिप्ला के 1.74, डॉ. रेड्डीज लैब के 1.27, सनफार्मा के 1.08, आईटीसी के 0.72, ल्युपिन के 0.36 और अदानी पोट्र्स के 0.15 प्रतिशत की तेजी में रहे। अमेरिका में ब्याज दर बढऩे शेयर बाजार धड़ाम मुंबई। अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत की बढ़ोतरी से यूरोपीय तथा अन्य एशियाई शेयर बाजारों के साथ घरेलू शेयर बाजार भी आज धड़ाम हो गये।
बीएसई का सेंसेक्स 0.26 प्रतिशत यानी 80.18 अंक लुढ़ककर 26 मई के बाद के निचले स्तर 31,075.73 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 0.42 प्रतिशत यानी 40.10 अंक उतरकर 25 मई के बाद के निचले स्तर 9,578.05 अंक पर आ गया।
अवैध खनन मामले में सीबीआई ने एमएलसी मसूद अली से की लंबी पूछताछ
बीएसई के समूहों में रियलिटी में सबसे ज्यादा दो प्रतिशत से अधिक की तेजी रही जबकि तेल एवं गैस और पीएसयू समूहों में एक प्रतिशत से ज्यादा की गिरावट देखी गयी। सेंसेक्स को जहाँ रिलायंस इंडस्ट्रीज और विप्रो के साथ दवा क्षेत्र की कंपनियों ने सँभाला, वहीं टीसीएस, एलएंडटी, ओनजीसी और एचडीएफसी जैसी दिग्गज कंपनियों ने इस पर दबाव बनाया। 

सेंसेक्स की शुरुआत 66.98 अंक की बढ़त के साथ 31,222.89 अंक पर हुई और वैश्विक दबाव के कारण खुलते ही यह लाल निशान में चला गया। शुरुआती कारोबार में इसने सँभलने की कोशिश की और कुछ देर के लिए हरे निशान में भी रहा, लेकिन पहले घंटे का कारोबार समाप्त होते-होते इस पर दबाव बढ़ गया जिससे यह पूरे दिन नहीं उबर सका।
कारोबार के दौरान 31,229.44 अंक के दिवस के उच्चतम और 31,026.48 अंक के निचले स्तर को छूने के बाद कारोबार की समाप्ति पर सेंसेक्स गत दिवस की तुलना में 80.18 अंक लुढ़ककर 31,075.73 अंक पर बंद हुआ।
सूचकांक में शामिल 30 में से 22 कंपनियाँ गिरावट में रहीं। टीसीएस के शेयर लगभग ढाई प्रतिशत लुढ़के। एलएंटी में करीब डेढ़ फीसदी की गिरावट रही। ओएनजीसी, महिंद्रा एंड महिंद्रा, कोल इंडिया और गेल में भी एक प्रतिशत से अधिक की गिरावट रही।
निफ्टी पर सेंसेक्स की तुलना में ज्यादा दबाव रहा। यह 0.25 प्रतिशत की गिरावट में 9,617.90 अंक पर खुला। शुरुआती कारोबार में 9,621.40 अंक के दिवस के उच्चतम और अंतिम घंटे में 9,560.80 अंक के निचले स्तर को छूता हुआ यह गत दिवस के मुकाबले 40.10 अंक गिरकर 9,578.05 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 51 कंपनियों में से 38 के शेयर गिरावट में, 12 बढ़त में और एक अपरिवर्तित रहे।
बड़ी कंपनियों के विपरीत छोटी कंपनियों में निवेशकों ने लिवाली की जबकि मझौली कंपनियों में बिकवाली कम रही। बीएसई का स्मॉलकैप 0.37 प्रतिशत की तेजी के साथ 15,645.89 अंक पर और मिडकैप 0.12 प्रतिशत फिसलकर 14,781.77 अंक पर बंद हुआ।
योगी दलितों के साथ सहभोज का नाटक न करे… इससे नहीं बदलेगा दलितों का भाग्य:मायावती
बीएसई में कुल 2,818 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ। इनमें 1,374 के शेयर हरे निशान में और 1,272 के लाल निशान में रहे जबकि 172 में कोई बदलाव नहीं हुआ।
प्रमुख एशियाई शेयर बाजारों में अधिकतर लाल निशान रहे। जापान का निक्की 0.26 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.46 प्रतिशत और हांगकांग का हैंगसेंग 1.20 प्रतिशत टूटकर बंद हुये। वहीं, चीन के शंघाई कंपोजिट में 0.06 फीसदी की तेजी रही। यूरोपीय बाजार भी लाल निशान में खुले। शुरुआती कारोबार में ब्रिटेन का एफटीएसई 0.76 प्रतिशत और जर्मनी का डैक्स 0.75 प्रतिशत लुढ़क गया।
बीएसई के समूहों में सबसे ज्यादा 1.15 प्रतिशत की गिरावट तेल एवं गैस में देखी गयी। पीएसयू का सूचकांक 1.02 प्रतिशत टूटा। इनके अलावा आईटी और टेक दोनों में 0.92, पूँजीगत वस्तुओं में 0.68, दूरसंचार में 0.64, ऑटो में 0.54, बैंकिग में 0.41, धातु में 0.38, इंडस्ट्रियल्स में 0.31, फाइनेंस और टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद दोनों में 0.29 तथा सीडीजीएंडएस और यूटिलिटीज दोनों में 0.15 प्रतिशत की गिरावट रही।
सबसे ज्यादा 2.16 फीसदी की तेजी रियलिटी समूह में रही। इसके अलावा बेसिक मटिरियल्स, एनर्जी, एफएमसीजी, स्वास्थ्य और पावर समूहों में भी तेजी रही।
सेंसेक्स की कंपनियों में टीसीएस के शेयर 2.42 प्रतिशत, एलएंडटी के 1.46, ओएनजीसी के 1.18, महिंंद्रा एंड महिंद्रा केृ 1.16, कोल इंडिया के 1.13, गेल के 1.10, हिंदुस्तान यूनिलिवर ृके 0.82, एचडीएफसी के 0.79, बजाज ऑटो के 0.71, आईसीआईसीआई बैंक और टाटा मोटर्स दोनों के 0.70, इंफोसिस के 0.66, एशियन पेंट्स के 0.64, एचडीएफसी बैंक के 0.53, मारुति सुजुकी के 0.50, एनटीपीसी के 0.28, हीरो मोटोकॉर्प के 0.23, भारतीय स्टेट बैंक के 0.11, पावर ग्रिड के 0.05, टाटा स्टील के 0.04 तथा एक्सिस बैंक और भारती एयरटेल दोनों के 0.03 प्रतिशत की गिरावट में रहे।
मुनाफा कमाने वालों में रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर 2.11 प्रतिशत, विप्रो के 1.86, सिप्ला के 1.74, डॉ. रेड्डीज लैब के 1.27, सनफार्मा के 1.08, आईटीसी के 0.72, ल्युपिन के 0.36 और अदानी पोट्र्स के 0.15 प्रतिशत की तेजी में रहे।

Share it
Top