अब घर-घर अरहर : पासवान

अब घर-घर अरहर : पासवान

नई दिल्ली। खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री राम विलास पासवान ने देश में दालों की उपलब्धता बढऩे तथा इनके थोक मूल्य में गिरावट पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए आज कहा कि पहले विपक्षी दल दालों की कीमतों में वृद्धि पर अरहर मोदी कहते थे लेकिन अब स्थिति में आये बदलाव के बाद लोग घर-घर अरहर कह रहे हैं। यहां एक कार्यक्रम के बाद जब संवाददाताओं ने श्री पासवान से पूछा कि दालों के थोक मूल्य में कमी के बावजूद खुदरा मूल्य में कमी नहीं हो रही है तो उन्होंने कहा कि जमाखोरों की खैर नहीं है। उन्होंने कहा कि जमाखोरों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है और वे अपने गोदामों में रखी दालों को निकालने भी लगे हैं जिससे दालों के थोक मूल्य में कमी आई है। उन्होंने कहा कि इस बार दलहनों की बम्पर फसल होने की संभावना है और किसानों ने बड़े पैमाने पर दलहनों की बुआई भी की है। दालों का न्यूनतम समर्थन मूल्य भी बढ़ाया गया है और इसने किसानों को दलहनों की खेती बढ़ाने को प्रेरित किया है। इसके कारण भी व्यापारी गोदामों में रखी दालों को बाजार में उतार रहे हैं। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि कुछ स्थानों पर मूंग की दाल की कीमत न्यूनतम समर्थन मूल्य से भी कम हो गयी है और सरकार की इस पर नजर है। सरकार किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर ही दलहनों को खरीदेगी।

Share it
Top