अनमोल वचन

अनमोल वचन

निर्मलता और सहजता ईश्वर का मानव को दिया गया अनुपम उपहार है। निर्मलता ही हमें नर से नारायण बनाती है। निर्मल मन सुख-शांति का आधार है, जीवन की सबसे बडी उपलब्धि है, जबकि मन की मलिनता हमें, हमारे स्वाभाव को दुर्भाव में परिवर्तित कर देती है। भावनाओं को अस्वाभाविक मोड देकर हमें राग-द्वेष और क्षोभ से भर देती है। निर्मल मन कोमल और स्निग्ध होता है, जबकि मैले मन में छल-कपट, राग और द्वेष घर करने लगते हैं। मन की निर्मलता के लिये सबसे पहले अनिवार्य है, जीवन में प्रेम और करूणा की भावना का प्रार्दुभाव। जब तक हम दूसरों का शोषण, कू्रर व्यवहार और अपने स्वार्थों के पोषण में ही लगे रहेंगे, तब तक निर्मलता हमसे दूर भागती रहेगी। हमारे आवेग, विक्षेप, संकल्प, विकल्प हमें शक्तिहीन किये रहेंगे। मन निर्मल कैसे हो, उसे तो प्रयास करके भी निर्मल रख पाना कठिन कार्य है। आज के विषाक्त परिवेश में तो यह निरंतर साधना के द्वारा ही सम्भव हो पायेगा।

Share it
Top