अनमोल वचन

अनमोल वचन

भविष्य को शुभ बनाने के लिये शुभाकांक्षा का अपना महत्व है। व्यक्ति जो भी करे, जिस प्रकार करे, शुभ भावनाओं से करे। उत्कर्ष के भावों से भरा रहे। पुरूषार्थ में पवित्रता के साथ-साथ चिंतनशीलता और कल्पनाशीलता भी हो तो भविष्य सहज ही शुभ एवं कल्याणमय हो सकता है। जो व्यक्ति कल्पनाशील होगा, उसकी आंखों में भविष्य के सतरंगे सपने तैरते रहेंगे और ये सपने उसकी दूरदृष्टि और पुरूषार्थ से जब पूरे होंगे तो मानो उसका भविष्य संवार गया। वर्तमान के सुख-दुख को समभाव से सहन करने से बहुत बडा सहारा बनता है। उज्जवल भविष्य का सपना वर्तमान जो कुछ है, वही यथार्थ हो तो व्यक्ति त्याग, तपस्या, साधना और आराधना क्यों करेगा। वर्तमान के सापेक्ष भविष्य की उज्जवल सम्भावनाओं के सहारे व्यक्ति क्रियाशील रहता है, उसमें उज्जवलता लाने को प्रयासरत रहता है।
 

Share it
Top