अनमोल वचन

अनमोल वचन

anmol-vachan-logoहे जीव तुम देह नहीं हो, तुम आकार नहीं हो, तुम हाड-मांस के पिंजर नहीं हो, तुम आत्मा हो, तुम शक्ति के पुतले हो, तुम शक्तिशाली हो, तुम सत्य हो, तुम अमर हो, तुम शिव हो, तुम कल्याण हो, तुम मंगल हो, तुम पवित्र हो, तुम बलवान हो, तुम निर्दोष हो, तुम आनन्दमय हो, तुम पूर्ण हो, तुम सब प्रकार के भय से मुक्त हो। उठो, जागो, आगे बढो, पूर्ण शक्तिशाली बनो, क्योंकि शक्ति के सामने सब नतमस्तक होते हैं। शक्ति का स्रोत परमेश्वर है, उससे सम्बन्ध स्थापित करो, वही शांति, सुख और आनन्द का स्थान है। परमेश्वर ही सब कुछ है, वही सबका रक्षक है, शुद्ध चित्त होकर अनन्य भाव से सर्वशक्तिमान परमात्मा के चरणों में शरणापत्र हो जाओ। परम पिता परमात्मा की सच्चे मन से प्रार्थना करो, रात-दिन करो, जगत के कल्याण के लिये, आत्म कल्याण के लिये, आत्मशक्ति के लिये प्रार्थना करो, सच्चे और सात्विक हृदय से की गई नि:स्वार्थ प्रार्थना प्रभु अवश्य स्वीकार करते हैं।आप ये ख़बरें अपने मोबाइल पर पढना चाहते है तो दैनिक रॉयलunnamed
बुलेटिन की मोबाइलएप को डाउनलोड कीजिये….गूगल के प्लेस्टोर में जाकर
royal bulletin
टाइप करे और एप डाउनलोड करे..आप हमारी हिंदी न्यूज़ वेबसाइट
www.royalbulletin.com
और अंग्रेजी news वेबसाइटwww.royalbulletin.in को भी लाइक करे.]. 

Share it
Top