अनमोल वचन

अनमोल वचन

जैसे ब्रह्म में सारा विश्व एक नीड के समान एकाकार हो जाता है, वैसे ही हमारे मन की आंखों में सारा मानव समाज अपने सहोदर जैसा हो जाये तो जीवन का सच्चा उद्देश्य पूरा हो जाये। यह विश्व भावना ही हमारे जीवन का स्वाभाव होना चाहिए। हम प्रतिदिन ईश्वर से प्रार्थना करें कि हमारा स्वाभाव कर्म, व्यवहार और बुद्धि कभी स्वार्थ से प्रेरित होकर एकांकरूणा, दया, प्रेम, सहिष्णुता की भावना लगातार बढती जायेगी। सारा जीवन सद्गुणों से भरा पूरा हो जायेगा। मैं की जगह हम सब की भावना जागृत होती जायेगी। ईश्वर मुझ पर कृपा करें कि मेरा प्रत्येक दिन मानवता की सेवा में समर्पित हो।

Share it
Top