अनमोल वचन

अनमोल वचन

Anmol Vachanप्राय: सामान्य लोगों का लक्ष्य जीवन यापन ही रहता है। खाना, कमाना, ब्याह- शादी, लेन-देन, व्यवहार, व्यापार आदि साधना जीवन क्रम को पूरा करते हुए मृत्यु तक पहुंच जाना। बस इसके अतिरिक्त उनका अन्य कोई लक्ष्य नहीं होता। एक जीविका जुटा लेना, एक परिवार बसा लेना और बच्चों का पालन पोषण करते हुए शादी-ब्याह आदि कर देना मात्र ही सामान्य लोगों ने जीवन का लक्ष्य मान लिया है। वास्तव में यह जीवन यापन की साधारण प्रक्रिया मात्र है, जीवन लक्ष्य नहीं। जीवन लक्ष्य उस सुनिश्चित विचार को ही कहा जायेगा, जो संसार साधारण कार्यक्रम से कुछ ऊंचा हो, कुछ अलग हो, विशेष हो और जिसे पूरा करने में अतिरिक्त पुरूषार्थ करना पडे। कोई सुनिश्चित लक्ष्य, कुछ विशेष ध्येय धारण करके चलने वालों को असाधारण व्यक्तियों की कोटि में रखा जाता है। उनकी विशेषता और महानता केवल यही होती है। परमात्मा से सामान्य जीवन जीने के अभ्यस्त व्यक्तियों में से उन्होंने कुछ बढकर कुछ असामान्यता ग्रहण की है। लोग उनको महान इसलिए मान लेते हैं कि सामान्य लोग एक ही लीक पर चलती चली जा रही जीवनशैली में न जाने कितने कष्ट अनुभव करते हैं तब उस व्यक्ति ने एक अन्य अनजान एवं असामान्य मार्ग चुना है। उसका साहस एवं सहिष्णुता अन्य लोगों से कुछ अधिक बढी-चढी है और वही मार्ग उसे महानता की ओर ले जायेगा।

Share it
Top