अनमोल वचन

अनमोल वचन

anmol vachanमुस्कराता चेहरा सभी को अच्छा लगता है, क्योंकि मुस्कराहट में आकर्षण होता है। मुस्कराहट देखकर स्वाभाविक तौर पर सभी के चेहरों पर भी मुस्कराहट फैल जाती है, उदास चेहरों में भी खुशी की लहर आ जाती है। मुस्कराहट स्वाभाविक भी होती है और बनावटी भी। यह स्वाभाविक तब होती है, जब यह अंदर की गहराईयों से फूटकर निकलती है और बनावटी तब होती है, जब दूसरों को दिखाने के लिए होती है। व्यक्ति जब परेशान होता है उदास होता है तो उसकी यह सहज मुस्कराहट एक पल में गायब हो जाती है। चेहरे पर उदासी, गम्भीरता, घबराहट नजर आने लगती है। यदि व्यक्ति इन सबको दूर करने का उपाय कर सके तो अपनी जिंदगी को बहुत खुशहाल बना सकता है। इसके लिए सबसे पहले अपने जीवन के उन पलों को याद करना चाहिए, जिनके स्मरण मात्र से आप पुलकित हो जाते हैं। दूसरे चहरे को दर्पण में देखे यह कैसा दिख रहा है फिर मुस्कराहट देखे आपको स्वयं ही महसूस हो जायेगा कौनसा चेहरा आकर्षित करता है। तीसरे मुस्कराते चेहरों को गौर से देखो उनकी भाव भंगिमा और उनकी प्रसन्नता को अपने भीतर अनुभव करने का प्रयास करें। एक विशेष उपाय यह है आप प्रकृति के सम्पर्क में अधिक से अधिक रहे आपको प्रकृति का सौंदर्य देखकर स्वाभाविक रूप से प्रसन्नता प्राप्त होगी, आप मुस्करा उठेंगे।

Share it
Top