अनमोल वचन

अनमोल वचन

anmol vachanनीति का वचन है ‘अनीति से प्राप्त सफलता की अपेक्षा नीति पर चलते हुए हम असफलता को शिरोधार्य करें।’ व्यक्ति सफलता चाहता है चाहे मार्ग कोई भी अपनाना पडे, परन्तु याद रहे अनैतिक मार्ग अपना कर पाई गई सफलता कभी संतोष नहीं दे पायेगी। जीवन साधना का एक महत्वपूर्ण आधार है कि सफलता येन-केन प्रकारेण नहीं न्याययुक्त, नीतियुक्त तरीके से ही अर्जित की जाये। इसी में हमारे दूरगामी हित है। आज के उपभोक्तावादियों, भोगवादियों को यह विचार पिछडापन लग सकता है, परन्तु युग निर्माताओं के लिए यह अनिवार्य है कि वे इस पर पूरी तरह अमल करे और विश्वास रखे कि उनके साथ न्याय होगा। नीति एक वचन और ‘आत्मन प्रति कूलानि परेषां न समाचरेत’ अर्थात हम दूसरों के साथ वह व्यवहार नहीं करेंगे। जो हमें अपने लिए पसंद नहीं। यदि इस पर हमारा दृढ विश्वास हो तो विश्वास रखना चाहिए कि सफलता हमारे कदम चूमेगी, हमें जबरदस्त सहयोग प्राप्त होगा। हम सत्य के मार्ग पर चलेंगे तो यह मानकर चलिये कि एक न एक दिन सभी सत्य का मार्ग अपनायेंगे।

Share it
Share it
Share it
Top