अनमोल वचन

अनमोल वचन

anmol vachanशक्तियां और क्षमताएं हर व्यक्ति के भीतर मौजदू है। मात्र कमी इतनी है कि व्यक्ति उन्हें पहचान नहीं पाता समझ नहीं पाता और न ही उसका सही उपयोग कर पाता है। इन्हें पहचानने का एक ही तरीका है कि हम छोटी-छोटी जिम्मेदारियां लें। कठिन कार्यों को करने में संकोच न करे, सफल-असफल होने से डरे नहीं। जो द्वन्द में रहता है, डरता है वह आगे नहीं बढ पाता। दर असल हम अपनी कीमत ही नहीं समझ पाते केवल अपनी दुर्बलताओं के बारे में ही सोचते रहते हैं, यह नहीं देख पाते कि इन दुर्बलताओं के बावजूद हमारे भीतर खूबियां कितनी हैं, जो कमियां अथवा दुर्बलताएं हैं उन्हें कैसे दूर किया जा सकता है। विडम्बना यह है कि हम सब ही स्वयं को तथा इस शरीर की क्षमताओं को कमतर आंकते हैं। इस शरीर से भी मूल्यवान जीवात्मा परमात्मा के अंश के रूप में हमारे साथ रहता है। परमात्मा द्वारा दिये उपहार इस शरीर को जितना सम्भव है सदुपयोग करें। कोई समस्या आये तो आत्मा के द्वारा परमात्मा से निर्देश लें। चुनौतियों के सामने-समर्पण न करें, तभी हम अपनी शक्तियों और क्षमताओं से परिचित हो सकेंगे।

Share it
Share it
Share it
Top