अनमोल वचन

अनमोल वचन

anmol vachan3जीवन में मिलने वाली असफलताएं देखने में भले ही कितनी बडी क्यों न लगे, परन्तु वे हमारे जीवन से बडी नहीं हो सकती। असफलताओं को कभी इतनी बडी मत मानो कि हम उसके कारण अपने जीवन को ही बोझ मानने लगे तथा हमारा चिन्तन ही नकारात्मक हो जाये। होना यह चाहिए कि असफलता को खुले दिल से स्वीकार करें, अपनी गति को मंद न होने दें, आगे की योजना बनाकर तैयारी में जुट जायें। इससे नई सम्भावनाओं के द्वार खुलेंगे। यह समझना आवश्यक है कि असफलता मिलने से केवल एक रास्ता बंद दिखता है, परन्तु बाकी सब रास्ते खुले होते हैं, जिन्हें तभी देखा जा सकता है, जब हम असफलता से मिलने वाली ठोकर को सहकर सम्भल जाते हैं। सर आइजक न्यूटन इसका अनुपम उदाहरण है, जिन्होंने बचपन गरीबी में गुजारा, पढाई में कई बार असफल हुए। कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से भी उन्हें निकाल दिया गया फिर वे भौतिक शास्त्र के महान विद्वान बने। स्वयं को कभी भी असफल समझने की भूल नहीं करनी चाहिए। जिन्दगी अनेक अवसर देती है, जो हमारे लिए कसौटी होते है कि हम उन पर खरे उतरे। असफल होने पर घबराये नहीं अन्य अवसरों की प्रतीक्षा करें तथा अपने प्रयास जारी रखें।

Share it
Top