अनमोल वचन

अनमोल वचन

नैतिक जीवन मूल्यों का मानव जीवन में विशेष महत्व है। इन्हीं मूल्यों में जीवन के सारे गुण समाहित हैं। हम चाहे किसी पद पर रहें, कोई भी काम करते रहें, नैतिकता का महत्व हर क्षेत्र में बना रहता है। सुबह सोकर उठने से लेकर रात्रि में सोने तक के बीच की अवधि में चाहे जो भी कार्य हम करते रहें, उनमें नैतिकता की मांग अपेक्षित है। हम अपने जीवन में महानता और विराटता इसी महान सद्गुण से ला सकते हैं। नैतिकता का पाठ बच्चों को बाल्यावस्था से सिखाया जाना जरूरी है, ताकि वह अपने बचपन से ही अच्छा व्यवहार करना और अच्छी कार्यशैली अपनाना सीख सकें। नैतिकता का पाठ जिसे पढाया गया हो, वह कभी समाज में अपमानित और दुखी नहीं हो सकता। वह जीवन सही तरीके से जीना सीख लेता है। इसलिए उसे किसी की डाट नहीं सुननी पडती। नैतिकता हमें अनुशासन का पाठ सिखाती है। बचपन में अच्छी आदतें डाल देने से ही बच्चे में अच्छे गुणों को ग्रहण करने का स्वाभाव बन जाता है। उन्हें बार-बार कहना नहीं पडता। वह आत्मविश्वासी और निर्भय बन जाता है। हमें अपना और अपने बच्चों का जीवन उन्नत बनाना है तो नैतिकता को व्यवहार में अपनाना होगा, ताकि बच्चे अपने स्वाभावनुसार उनका अनुसरण कर अच्छे व्यवहार और अच्छी आदतें सीख लें।

Share it
Top