अनमोल वचन

अनमोल वचन

मनुष्य का जीवन उसके विचारों का प्रतिबिंब है। असफलता-सफलता, उन्नति-अवनति, तुच्छता-महानता, सुख-दुख, शांति-अशांति आदि जीवन के सभी पक्ष मनुष्य के विचारों पर निर्भर करते हैं। किसी भी व्यक्ति के विचार जानकर उसके जीवन का यथार्थ सहज ही ज्ञात किया जा सकता है। मनुष्य को कायर-वीर, स्वस्थ-अस्वस्थ, प्रसन्न-अप्रसन्न कुछ भी बनाने में उसके विचारों का महत्वपूर्ण हाथ होता है। अपने विचारों के अनुरूप ही मनुष्य की जीवन बनता और बिगडता है। अच्छे विचार उसे उन्नत बनायेंगे, तो हीन विचार मनुष्य को गिरायंगे। स्वर्ग और नरक कहीं अन्यंत्र नहीं, हमारे विचारों में ही हैं। जीवन की विभिन्न गतिविधियों का संचालन करने में हमारे विचारों का ही प्रमुख हाथ रहता है। हम जो कुछ भी करते हैं, विचारों की प्रेरणा से ही करते हैं, इसलिए मनुष्य के जैसे विचार होंगे, वह वैसा ही बन जायेगा। वर्तमान में हम जैसे हैं, जो हैं, अपने विचारों के ही कारण और भविष्य में जो कुछ भी, जैसे भी बनेंगे, वह भी अपने विचारों के ही कारण, क्योंकि अच्छाई-बुराई का आधार हमारे विचार ही हैं।

Share it
Top