अंदाज अलग-अलग दुपट्टे के

अंदाज अलग-अलग दुपट्टे के

बेशक आजकल की गर्ल्स वेस्टर्न आउटफिट को ज्यादा तरजीह दे रही हैं लेकिन इसके बावजूद वे इंडियन आउटफिट से खुद को दूर नहीं रख पातीं। इसकी खास वजह यह है कि आमतौर पर इंडियन आउटफिट खुले होने की वजह से कूल और कंफर्टेबल फील कराते हैं। इन आउटफिट्स में एक है दुपट्टा। इसे अधिकांश कॉलेज गोइंग गल्र्स से ले कर वर्किंग गर्ल्स तक को कैरी करते हुए देखा जा सकता है।
दुपट्टे के लिए प्रयोग किए जाने वाले वैसे तो बहुत सारे स्टफ होते हैं जैसे कि कॉटन, ग्लेज कॉटन, सिल्क, जॉर्जेट, शिफॉन, कॉटन नेट आदि। लेकिन गर्मी में सबसे अधिक डिमांड कॉटन व ग्लेज कॉटन के दुपट्टों की होती है। आइए, जानते हैं दुपट्टे के नए ट्रेंड के बारे में:
लहरिया : लहरिया प्रिंट के दुपट्टे आमतौर पर शिफॉन के होते हैं और इन पर लंबी-लंबी धारियां बनी होती हैं। डिफरेंट कलर में मिलने वाले ये दुपट्टे लाइट व प्लेन कलर के सूट के साथ बेहद आकर्षक लगते हैं खास कर व्हाइट ड्रेस के साथ। ये वजन में बेहद हल्के होते हैं। इन्हें थोड़ा हैवी लुक देने के लिए इनके किनारों पर मोती, क्रोशिया लेस, गोटा, लटकन आदि का इस्तेमाल किया जाता है।
कैरी विद स्टाइल: दुपट्टे के साथ काफी सारे प्रयोग करके आप स्टाइलिश लुक पा सकती हैं। इसे कैरी करने का यों तो सबसे कॉमन स्टाइल है फ्रंट से दोनों कंधों पर लेकिन यह वन साइड के अलावा बैक से दोनों शोल्डर पर भी आकर्षक लुक देता है। इसके अलावा इसे मफलर स्टाइल में भी कैरी किया जा सकता है। वैसे आजकल दुपट्टों का प्रयोग धूप से बचने के लिए सिर और चेहरे को ढकने के लिए भी किया जाता है यानी स्टाइल के साथ सेफ्टी कवर भी।
बढ़ती उम्र का अहसास भी जरूरी है
बांधनी व टाई एंड डाई वर्क : बांधनी या बंधेज वर्क के दुपट्टे बनाने के लिए रेशमी धागे का इस्तेमाल किया जाता है। कुछ-कुछ दूरी पर धागों से दुपट्टों को बांध कर उन्हें रंग में कुछ देर के लिए डुबो दिया जाता है। फिर रंग से निकालने के बाद धागों को खोल कर सुखा दिया जाता है, जिसके फलस्वरूप बंधे हुए स्थान पर खूबसूरत डिजाइन उभर आते हें। ऐसे दुपट्टे दो या इससे अधिक कलर में भी बनाए जाते हैं। इन्हें हैवी लुक देने के लिए सीप, सीसे व सितारों का इस्तेमाल किया जाता है।श्
बाटिक व ब्लॉक प्रिंट: बाटिक पिं्रट के लिए ग्लेज कॉटन व सिल्क के स्टफ का इस्तेमाल किया जाता है। इस पर वैक्स की सहायता से डिजाइन बनाए जाते हैं, जो कि सिंपल व सोबर लुक देते हैं। ब्लॉक प्रिंट के लिए लकड़ी के टुकड़ों का इस्तेमाल किया जाता है जिन पर विभिनन प्रकार के डिजाइन जैसे कि फूल, पत्ती, मोर आदि बने होते हैं। इस प्रकार से तैयार दुपट्टों की खासीयत यह होती है कि इनके डिजाइन कभी फेड नहीं होते।
खुशियों के रंग, चूडिय़ों के संग
कांदा वर्क : कांदा वर्क एक तरह की महीन कढ़ाई होती है। इसमें सूई और धागों की मदद से डिजाइन बनाया जाता है। इसके डिजाइन बहुत बारीक होते हैं तथा उन्हें बनाने में मेहनत भी बहुत लगती है। प्लेन दुपट्टे पर रंग-बिरंगे धागे से सजे डिजाइन देखने में बहुत आकर्षक लगते हैं। रिच लुक होने की वजह से ये आम दुपट्टों के मुकाबले कुछ महंगे होते हैं।
प्लेन दुपट्टा : प्रिंटेड सूट के साथ प्लेन दुपट्टा अच्छा लगता है। यदि आप इस पर स्वयं कुछ प्रयोग करना चाहती हैं तो इसके चारों ओर लेस, गोटा, घुंघरू आदि लगा सकती हैं। चाहें तो सूट में से थोड़े हिस्से को निकाल कर दुपट्टे के चारों तरफ लेस की तरह लगा लें या फिर प्रिंटेड कपड़े को दुपट्टे पर ऐप्लीक की तरह लगाएं।
किस आउटफिट के साथ पहनें : पटियाला सूट, सेमी पटियाला, अफगानी सलवार, चूड़ीदार सूट के साथ दुपट्टा अट्रैक्टिव लुक देता है। चूंकि आजकल मिक्स ऐंड मैच का फैशन है तो इस लिहाज से हैंडीक्राफ्ट दुपट्टे को विभिन्न कुरतों के साथ मैच करके पहना जा सकता है।
-खुंजरि देवांगन

Share it
Share it
Share it
Top